Asaramji Bapu News

Asaramji Bapu News Every Story has Two Sides. Understand the difference of Hidden Truth & Paid Lies !! We Believe In Sharing Truth
Ab hoga #PAIDMEDIA KI POL KHOL.

हर खबर के पीछे छुपी होती है एक सच्चाईए जिसे हुमेशा छुपाया जाता है .. कुछ ऐसा ही किया गया है संत श्री असरामजी बापू के केस मे !!

इस केस के कई ऐसे तथ्य है जिन्हे आम लोगो से डोर रखा गया है और गलत बातो को बार बार दोबारा दूबारा दिखा दिखा कर लोगो की मानसिकता को ब्राह्मित किया जेया रहा है !!

हम आपको ले चलेंगे ऐसे खबरो की तेह तक जो आपको बतायेंगे खबर के दोनो पेहलू की सच क्या है और झूट क्या क्या है ?

जुड़े रहिये हुमारे साथ लगातार इस पेज के मध्यम से !!!

जन-जागरण लाना है तो इस को अधिक से अधिक शेयर करे !

Operating as usual

🚩 *भगवान शिवजी ने अफगानिस्तान में अंग्रेज अफसर की बचाई थी जान*🚩 *ज्यादातर हिंदू धर्म के लोग ही भगवान शिव को मानते हैं, उ...
26/07/2021

🚩 *भगवान शिवजी ने अफगानिस्तान में अंग्रेज अफसर की बचाई थी जान*

🚩 *ज्यादातर हिंदू धर्म के लोग ही भगवान शिव को मानते हैं, उनकी पूजा करते हैं, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताने जा रहे हैं, जो अंग्रेज था और वो भगवान शिव के प्रति सच्ची श्रद्धा रखता था। उसका दावा था कि एक बार खुद भगवान शिव उसकी जान बचाने के लिए अफगानिस्तान चले गए थे। इस अंग्रेज की कहानी बेहद ही हैरान करने वाली है।*

🚩 *सन 1879 की बात है । भारत में ब्रिटिश शासन था, उन्हीं दिनों अंग्रेजों ने अफगानिस्तान पर आक्रमण कर दिया । इस युद्ध का संचालन आगर मालवा ब्रिटिश छावनी के लेफ़्टिनेंट कर्नल मार्टिन को सौंपा गया था । कर्नल मार्टिन समय-समय पर युद्ध-क्षेत्र से अपनी पत्नी को कुशलता के समाचार भेजता रहता था । युद्ध लंबा चला और अब तो संदेश आने भी बंद हो गये । लेडी मार्टिन को चिंता सताने लगी कि 'कहीं कुछ अनर्थ न हो गया हो, अफगानी सैनिकों ने मेरे पति को मार न डाला हो । कदाचित पति युद्ध में शहीद हो गये तो मैं जीकर क्या करूँगी ?'- यह सोचकर वह अनेक शंका-कुशंकाओं से घिरी रहती थी ।*

🚩 *चिन्तातुर बनी वह एक दिन घोड़े पर बैठकर घूमने जा रही थी । मार्ग में किसी मंदिर से आती हुई शंख व मंत्र ध्वनि ने उसे आकर्षित किया । वह एक पेड़ से अपना घोड़ा बाँधकर मंदिर में गयी । बैजनाथ महादेव के इस मंदिर में शिवपूजन में निमग्न पंडितों से उसने पूछा :"आप लोग क्या कर रहे हैं ?" एक वृद्ध ब्राह्मण ने कहा : " हम भगवान शिव का पूजन कर रहे हैं ।" लेडी मार्टिन : 'शिवपूजन की क्या महत्ता है ? ब्राह्मण :' बेटी ! भगवान शिव तो औढरदानी हैं, भोलेनाथ हैं । अपने भक्तों के संकट निवारण करने में वे तनिक भी देर नहीं करते हैं । भक्त उनके दरबार में जो भी मनोकामना लेकर के आता है, उसे वे शीघ्र पूरी करते हैं, किंतु बेटी ! तुम बहुत चिन्तित और उदास नजर आ रही हो ! क्या बात है ?"*

🚩 *लेडी मार्टिन :" मेरे पतिदेव युद्ध में गये हैं और विगत कई दिनों से उनका कोई समाचार नहीं आया है । वे युद्ध में फँस गये हैं या मारे गये है, कुछ पता नहीं चल रहा । मैं उनकी ओर से बहुत चिन्तित हूँ |" इतना कहते हुए लेडी मार्टिन की आँखे नम हो गयीं । ब्राह्मण : "तुम चिन्ता मत करो, बेटी ! शिवजी का पूजन करो, उनसे प्रार्थना करो, लघुरूद्री करवाओ । भगवान शिव तुम्हारे पति का रक्षण अवश्य करेंगे । "*

🚩 *पंडितों की सलाह पर उसने वहाँ ग्यारह दिन का 'ॐ नमः शिवाय' मंत्र से लघुरूद्री अनुष्ठान प्रारंभ किया तथा प्रतिदिन भगवान शिव से अपने पति की रक्षा के लिए प्रार्थना करने लगी कि "हे भगवान शिव ! हे बैजनाथ महादेव ! यदि मेरे पति युद्ध से सकुशल लौट आये तो मैं आपका शिखरबंद मंदिर बनवाऊँगी ।" लघुरूद्री की पूर्णाहुति के दिन भागता हुआ एक संदेशवाहक शिवमंदिर में आया और लेडी मार्टिन को एक लिफाफा दिया । उसने घबराते-घबराते वह लिफाफा खोला और पढ़ने लगी ।*

🚩 *पत्र में उसके पति ने लिखा था :"हम युद्ध में रत थे और तुम तक संदेश भी भेजते रहे लेकिन अचानक पठानी सेना ने घेर लिया । ब्रिटिश सेना कट मरती और मैं भी मर जाता । ऐसी विकट परिस्थिति में हम घिर गये थे कि प्राण बचाकर भागना भी अत्याधिक कठिन था ।| इतने में मैंने देखा कि युद्धभूमि में भारत के कोई एक योगी, जिनकी बड़ी लम्बी जटाएँ हैं, हाथ में तीन नोंकवाला एक हथियार (त्रिशूल) इतनी तीव्र गति से घुम रहा था कि पठान सैनिक उन्हें देखकर भागने लगे । उनकी कृपा से घेरे से हमें निकलकर पठानों पर वार करने का मौका मिल गया और हमारी हार की घड़ियाँ अचानक जीत में बदल गयीं । यह सब भारत के उन बाघाम्बरधारी एवं तीन नोंकवाला हथियार धारण किये हुए (त्रिशूलधारी) योगी के कारण ही सम्भव हुआ । उनके महातेजस्वी व्यक्तित्व के प्रभाव से देखते-ही-देखते अफगानिस्तान की पठानी सेना भाग खड़ी हुई और वे परम योगी मुझे हिम्मत देते हुए कहने लगे । घबराओं नहीं । मैं भगवान शिव हूँ तथा तुम्हारी पत्नी की पूजा से प्रसन्न होकर तुम्हारी रक्षा करने आया हूँ, उसके सुहाग की रक्षा करने आया हूँ ।"*

🚩 *पत्र पढ़ते हुए लेडी मार्टिन की आँखों से अविरत अश्रुधारा बहती जा रही थी, उसका हृदय अहोभाव से भर गया और वह भगवान शिव की प्रतिमा के सम्मुख सिर रखकर प्रार्थना करते-करते रो पड़ी ।*

🚩 *कुछ सप्ताह बाद उसका पति कर्नल मार्टिन आगर छावनी लौटा । पत्नी ने उसे सारी बातें सुनाते हुए कहा : "आपके संदेश के अभाव में मैं चिन्तित हो उठी थी लेकिन ब्राह्मणों की सलाह से शिवपूजा में लग गयी और आपकी रक्षा के लिए भगवान शिव से प्रार्थना करने लगी । उन दुःखभंजक महादेव ने मेरी प्रार्थना सुनी और आपको सकुशल लौटा दिया ।" अब तो पति-पत्नी दोनों ही नियमित रूप से बैजनाथ महादेव के मंदिर में पूजा-अर्चना करने लगे । अपनी पत्नी की इच्छा पर कर्नल मार्टिन मे सन 1883 में पंद्रह हजार रूपये देकर बैजनाथ महादेव मंदिर का जीर्णोंद्वार करवाया, जिसका शिलालेख आज भी आगर मालवा के इस मंदिर में लगा है । पूरे भारतभर में अंग्रेजों द्वार निर्मित यह एकमात्र हिन्दू मंदिर है ।*

🚩 *यूरोप जाने से पूर्व लेडी मार्टिन ने पड़ितों से कहा : "हम अपने घर में भी भगवान शिव का मंदिर बनायेंगे तथा इन दुःख-निवारक देव की आजीवन पूजा करते रहेंगे ।"*

🚩 *हिंदू भगवान, वैदिक मंत्र और हिंदू साधु-संतों में अथाह शक्ति है पर विडंबना है कि हम भारतवासी आज इनकी महत्ता भूल गए हैं और पाश्चात्य संस्कृति की तरफ जाकर अपना पतन खुद कर रहे है, अब समय है फिर से हमें अपनी संस्कृति की तरफ लौटने का...।*

🚩 *भगवान शिवजी ने अफगानिस्तान में अंग्रेज अफसर की बचाई थी जान*

🚩 *ज्यादातर हिंदू धर्म के लोग ही भगवान शिव को मानते हैं, उनकी पूजा करते हैं, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताने जा रहे हैं, जो अंग्रेज था और वो भगवान शिव के प्रति सच्ची श्रद्धा रखता था। उसका दावा था कि एक बार खुद भगवान शिव उसकी जान बचाने के लिए अफगानिस्तान चले गए थे। इस अंग्रेज की कहानी बेहद ही हैरान करने वाली है।*

🚩 *सन 1879 की बात है । भारत में ब्रिटिश शासन था, उन्हीं दिनों अंग्रेजों ने अफगानिस्तान पर आक्रमण कर दिया । इस युद्ध का संचालन आगर मालवा ब्रिटिश छावनी के लेफ़्टिनेंट कर्नल मार्टिन को सौंपा गया था । कर्नल मार्टिन समय-समय पर युद्ध-क्षेत्र से अपनी पत्नी को कुशलता के समाचार भेजता रहता था । युद्ध लंबा चला और अब तो संदेश आने भी बंद हो गये । लेडी मार्टिन को चिंता सताने लगी कि 'कहीं कुछ अनर्थ न हो गया हो, अफगानी सैनिकों ने मेरे पति को मार न डाला हो । कदाचित पति युद्ध में शहीद हो गये तो मैं जीकर क्या करूँगी ?'- यह सोचकर वह अनेक शंका-कुशंकाओं से घिरी रहती थी ।*

🚩 *चिन्तातुर बनी वह एक दिन घोड़े पर बैठकर घूमने जा रही थी । मार्ग में किसी मंदिर से आती हुई शंख व मंत्र ध्वनि ने उसे आकर्षित किया । वह एक पेड़ से अपना घोड़ा बाँधकर मंदिर में गयी । बैजनाथ महादेव के इस मंदिर में शिवपूजन में निमग्न पंडितों से उसने पूछा :"आप लोग क्या कर रहे हैं ?" एक वृद्ध ब्राह्मण ने कहा : " हम भगवान शिव का पूजन कर रहे हैं ।" लेडी मार्टिन : 'शिवपूजन की क्या महत्ता है ? ब्राह्मण :' बेटी ! भगवान शिव तो औढरदानी हैं, भोलेनाथ हैं । अपने भक्तों के संकट निवारण करने में वे तनिक भी देर नहीं करते हैं । भक्त उनके दरबार में जो भी मनोकामना लेकर के आता है, उसे वे शीघ्र पूरी करते हैं, किंतु बेटी ! तुम बहुत चिन्तित और उदास नजर आ रही हो ! क्या बात है ?"*

🚩 *लेडी मार्टिन :" मेरे पतिदेव युद्ध में गये हैं और विगत कई दिनों से उनका कोई समाचार नहीं आया है । वे युद्ध में फँस गये हैं या मारे गये है, कुछ पता नहीं चल रहा । मैं उनकी ओर से बहुत चिन्तित हूँ |" इतना कहते हुए लेडी मार्टिन की आँखे नम हो गयीं । ब्राह्मण : "तुम चिन्ता मत करो, बेटी ! शिवजी का पूजन करो, उनसे प्रार्थना करो, लघुरूद्री करवाओ । भगवान शिव तुम्हारे पति का रक्षण अवश्य करेंगे । "*

🚩 *पंडितों की सलाह पर उसने वहाँ ग्यारह दिन का 'ॐ नमः शिवाय' मंत्र से लघुरूद्री अनुष्ठान प्रारंभ किया तथा प्रतिदिन भगवान शिव से अपने पति की रक्षा के लिए प्रार्थना करने लगी कि "हे भगवान शिव ! हे बैजनाथ महादेव ! यदि मेरे पति युद्ध से सकुशल लौट आये तो मैं आपका शिखरबंद मंदिर बनवाऊँगी ।" लघुरूद्री की पूर्णाहुति के दिन भागता हुआ एक संदेशवाहक शिवमंदिर में आया और लेडी मार्टिन को एक लिफाफा दिया । उसने घबराते-घबराते वह लिफाफा खोला और पढ़ने लगी ।*

🚩 *पत्र में उसके पति ने लिखा था :"हम युद्ध में रत थे और तुम तक संदेश भी भेजते रहे लेकिन अचानक पठानी सेना ने घेर लिया । ब्रिटिश सेना कट मरती और मैं भी मर जाता । ऐसी विकट परिस्थिति में हम घिर गये थे कि प्राण बचाकर भागना भी अत्याधिक कठिन था ।| इतने में मैंने देखा कि युद्धभूमि में भारत के कोई एक योगी, जिनकी बड़ी लम्बी जटाएँ हैं, हाथ में तीन नोंकवाला एक हथियार (त्रिशूल) इतनी तीव्र गति से घुम रहा था कि पठान सैनिक उन्हें देखकर भागने लगे । उनकी कृपा से घेरे से हमें निकलकर पठानों पर वार करने का मौका मिल गया और हमारी हार की घड़ियाँ अचानक जीत में बदल गयीं । यह सब भारत के उन बाघाम्बरधारी एवं तीन नोंकवाला हथियार धारण किये हुए (त्रिशूलधारी) योगी के कारण ही सम्भव हुआ । उनके महातेजस्वी व्यक्तित्व के प्रभाव से देखते-ही-देखते अफगानिस्तान की पठानी सेना भाग खड़ी हुई और वे परम योगी मुझे हिम्मत देते हुए कहने लगे । घबराओं नहीं । मैं भगवान शिव हूँ तथा तुम्हारी पत्नी की पूजा से प्रसन्न होकर तुम्हारी रक्षा करने आया हूँ, उसके सुहाग की रक्षा करने आया हूँ ।"*

🚩 *पत्र पढ़ते हुए लेडी मार्टिन की आँखों से अविरत अश्रुधारा बहती जा रही थी, उसका हृदय अहोभाव से भर गया और वह भगवान शिव की प्रतिमा के सम्मुख सिर रखकर प्रार्थना करते-करते रो पड़ी ।*

🚩 *कुछ सप्ताह बाद उसका पति कर्नल मार्टिन आगर छावनी लौटा । पत्नी ने उसे सारी बातें सुनाते हुए कहा : "आपके संदेश के अभाव में मैं चिन्तित हो उठी थी लेकिन ब्राह्मणों की सलाह से शिवपूजा में लग गयी और आपकी रक्षा के लिए भगवान शिव से प्रार्थना करने लगी । उन दुःखभंजक महादेव ने मेरी प्रार्थना सुनी और आपको सकुशल लौटा दिया ।" अब तो पति-पत्नी दोनों ही नियमित रूप से बैजनाथ महादेव के मंदिर में पूजा-अर्चना करने लगे । अपनी पत्नी की इच्छा पर कर्नल मार्टिन मे सन 1883 में पंद्रह हजार रूपये देकर बैजनाथ महादेव मंदिर का जीर्णोंद्वार करवाया, जिसका शिलालेख आज भी आगर मालवा के इस मंदिर में लगा है । पूरे भारतभर में अंग्रेजों द्वार निर्मित यह एकमात्र हिन्दू मंदिर है ।*

🚩 *यूरोप जाने से पूर्व लेडी मार्टिन ने पड़ितों से कहा : "हम अपने घर में भी भगवान शिव का मंदिर बनायेंगे तथा इन दुःख-निवारक देव की आजीवन पूजा करते रहेंगे ।"*

🚩 *हिंदू भगवान, वैदिक मंत्र और हिंदू साधु-संतों में अथाह शक्ति है पर विडंबना है कि हम भारतवासी आज इनकी महत्ता भूल गए हैं और पाश्चात्य संस्कृति की तरफ जाकर अपना पतन खुद कर रहे है, अब समय है फिर से हमें अपनी संस्कृति की तरफ लौटने का...।*

*🚩दैनिक भास्कर को केवल हिंदू त्यौहार से ही पेट में दर्द क्यों हो रहा है?**🚩कुछ दिन पहले देवशयनी एकादशी मनाई गई। उस समय द...
25/07/2021

*🚩दैनिक भास्कर को केवल हिंदू त्यौहार से ही पेट में दर्द क्यों हो रहा है?*

*🚩कुछ दिन पहले देवशयनी एकादशी मनाई गई। उस समय दैनिक भास्कर ने अपने अखबार में हैडिंग में लिखा, "देवशयनी एकादशी पर बांके बिहारी मंदिर में सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाई।"*

*जबकि अभी कुछ दिन पहले ईद पर भास्कर ने अखबार के हैडिंग में लिखा, "मस्जिदों में सामूहिक नमाज अदा करके बकरी ईद मनाया।"*

*भास्कर का यही दोगलापन है; हमेशा हिन्दू विरोधी खबरें छापता है। साधु-संतों के विरोध में भी झूठी खबरें बनाता है। अब मंदिर में सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाई गई और मस्जिद में ईद मनाया गया, वाह रे भास्कर तेरा ये दोगलापन कहाँ से आता है? हिंदू धर्म से इतनी नफरत क्यों हो रही है?*

*🚩भास्कर के ₹2,200 करोड़ के फर्जी लेनदेन की जाँच, ₹700 करोड़ की आय पर टैक्स चोरी का खुलासा*

*🚩टैक्स चोरी के आरोपों का सामना कर रहे दैनिक भास्कर को लेकर आयकर विभाग ने बड़ा दावा किया है। आईटी विभाग ने शनिवार (24 जुलाई) को दावा किया कि दैनिक भास्कर मीडिया समूह के कई कार्यालयों पर छापेमारी के दो दिन बाद 2,200 करोड़ रुपए के ‘काल्पनिक लेनदेन’ का पता चला है। वहीं, मीडिया समूह की तलाशी में छह वर्षों में ₹700 करोड़ की आय पर अवैतनिक कर, शेयर बाजार के नियमों का उल्लंघन और लिस्टेड कंपनियों से लाभ की हेराफेरी के आयकर विभाग को सबूत मिले हैं।*

*🚩आयकर विभाग ने प्रेस रिलीज में बताया, ”22 जुलाई को आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 132 के तहत एक प्रमुख व्यवसायी समूह पर तलाशी अभियान चलाया गया, जो मीडिया, बिजली, कपड़ा और रियल एस्टेट सहित विभिन्न क्षेत्रों के व्यवसायों में शामिल है। इस ग्रुप का सालाना 6,000 करोड़ का टर्न ओवर है। मुंबई, दिल्ली, भोपाल, इंदौर, नोएडा और अहमदाबाद सहित 9 शहरों में फैले 20 आवासीय और 12 व्यावसायिक परिसरों को कवर किया गया है।*

*🚩इस ग्रुप में होल्डिंग और सहायक कंपनियों सहित 100 से अधिक कंपनियाँ हैं। तलाशी के दौरान पता चला कि वे अपने कर्मचारियों के नाम पर कई कंपनियों का संचालन कर रहे हैं, जिनका इस्तेमाल फर्जी खर्चों की बुकिंग और फंड की रूटिंग के लिए किया गया है। तलाशी के दौरान कई कर्मचारी पाए गए, जिनके नाम शेयरधारकों और निदेशकों के रूप में इस्तेमाल किए गए थे। उन्होंने स्वीकार किया है कि उन्हें ऐसी कंपनियों के बारे में पता नहीं था और उन्होंने अपने आधार कार्ड और डिजिटल हस्ताक्षर नियोक्ता के विश्वास पर दिए थे। इसमें कुछ रिश्तेदार पाए गए, जिन्होंने स्वेच्छा से और जानबूझकर कागजात पर हस्ताक्षर किए थे, लेकिन कंपनियों की व्यावसायिक गतिविधियों पर कोई नियंत्रण नहीं था, जिसमें उन्हें निदेशक और शेयरधारक माना जाता था।*

*उन्होंने कहा कि इस तरह की कंपनियों का उपयोग कई उद्देश्यों के लिए किया गया है, जैसे कि फर्जी खर्चों की बुकिंग और सूचीबद्ध कंपनियों से लाभ कमाना, निवेश करने के लिए उनकी करीबी कंपनियों में फंड को स्थानांतरित करना और सर्कुलर लेनदेन करना आदि। आयकर विभाग ने विज्ञप्ति में यह भी कहा कि मीडिया हाउस ने खनन, प्रसंस्करण और शराब, आटा व्यवसाय, अचल संपत्ति की बिक्री के माध्यम से 90 करोड़ रुपए की बड़ी आय अर्जित की। आयकर विभाग ने पाया है कि डीबी समूह की कई कंपनियों ने फर्जी खर्च बुक किया है और सूचीबद्ध कंपनियों के मुनाफे में से 700 करोड़ की राशि का गबन किया है।*

*🚩अबतक पता चला है कि इन तरीकों का इस्तेमाल आयकर देने से बचने के लिए किया गया है। इसके अलावा कंपनी अधिनियम के S.2 (76) (vi) और सूचीबद्ध कंपनियों के लिए सेबी द्वारा निर्धारित लिस्टिंग समझौते के खंड 49 का उल्लंघन शामिल है। बेनामी लेनदेन निषेध अधिनियम के आवेदन की भी जाँच की जाएगी।*
https://twitter.com/OpIndia_in/status/1419137833156100099?s=19

*🚩आपको ये भी बता दें कि भास्कर के मालिक पर भी रेप का आरोप लगा था पर कहीं खबर नहीं छापी थी और अखबार के नाम पर शराब का धंधा करना, जमीन हड़पना, अखबार में विज्ञापन नहीं देने पर व्यापारियों को ब्लैकमेल करना, साधु-संतों के खिलाफ झूठी कहानियां बनाकर उनको बदनाम करना, हिन्दू त्यौहार का विरोध करना- ये सब भास्कर ग्रुप कर रहा है। अब जनता की मांग है कि ऐसे अखबार पर तुरंत प्रतिबंध लगा देना चाहिए।*

*🚩दैनिक भास्कर को केवल हिंदू त्यौहार से ही पेट में दर्द क्यों हो रहा है?*

*🚩कुछ दिन पहले देवशयनी एकादशी मनाई गई। उस समय दैनिक भास्कर ने अपने अखबार में हैडिंग में लिखा, "देवशयनी एकादशी पर बांके बिहारी मंदिर में सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाई।"*

*जबकि अभी कुछ दिन पहले ईद पर भास्कर ने अखबार के हैडिंग में लिखा, "मस्जिदों में सामूहिक नमाज अदा करके बकरी ईद मनाया।"*

*भास्कर का यही दोगलापन है; हमेशा हिन्दू विरोधी खबरें छापता है। साधु-संतों के विरोध में भी झूठी खबरें बनाता है। अब मंदिर में सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाई गई और मस्जिद में ईद मनाया गया, वाह रे भास्कर तेरा ये दोगलापन कहाँ से आता है? हिंदू धर्म से इतनी नफरत क्यों हो रही है?*

*🚩भास्कर के ₹2,200 करोड़ के फर्जी लेनदेन की जाँच, ₹700 करोड़ की आय पर टैक्स चोरी का खुलासा*

*🚩टैक्स चोरी के आरोपों का सामना कर रहे दैनिक भास्कर को लेकर आयकर विभाग ने बड़ा दावा किया है। आईटी विभाग ने शनिवार (24 जुलाई) को दावा किया कि दैनिक भास्कर मीडिया समूह के कई कार्यालयों पर छापेमारी के दो दिन बाद 2,200 करोड़ रुपए के ‘काल्पनिक लेनदेन’ का पता चला है। वहीं, मीडिया समूह की तलाशी में छह वर्षों में ₹700 करोड़ की आय पर अवैतनिक कर, शेयर बाजार के नियमों का उल्लंघन और लिस्टेड कंपनियों से लाभ की हेराफेरी के आयकर विभाग को सबूत मिले हैं।*

*🚩आयकर विभाग ने प्रेस रिलीज में बताया, ”22 जुलाई को आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 132 के तहत एक प्रमुख व्यवसायी समूह पर तलाशी अभियान चलाया गया, जो मीडिया, बिजली, कपड़ा और रियल एस्टेट सहित विभिन्न क्षेत्रों के व्यवसायों में शामिल है। इस ग्रुप का सालाना 6,000 करोड़ का टर्न ओवर है। मुंबई, दिल्ली, भोपाल, इंदौर, नोएडा और अहमदाबाद सहित 9 शहरों में फैले 20 आवासीय और 12 व्यावसायिक परिसरों को कवर किया गया है।*

*🚩इस ग्रुप में होल्डिंग और सहायक कंपनियों सहित 100 से अधिक कंपनियाँ हैं। तलाशी के दौरान पता चला कि वे अपने कर्मचारियों के नाम पर कई कंपनियों का संचालन कर रहे हैं, जिनका इस्तेमाल फर्जी खर्चों की बुकिंग और फंड की रूटिंग के लिए किया गया है। तलाशी के दौरान कई कर्मचारी पाए गए, जिनके नाम शेयरधारकों और निदेशकों के रूप में इस्तेमाल किए गए थे। उन्होंने स्वीकार किया है कि उन्हें ऐसी कंपनियों के बारे में पता नहीं था और उन्होंने अपने आधार कार्ड और डिजिटल हस्ताक्षर नियोक्ता के विश्वास पर दिए थे। इसमें कुछ रिश्तेदार पाए गए, जिन्होंने स्वेच्छा से और जानबूझकर कागजात पर हस्ताक्षर किए थे, लेकिन कंपनियों की व्यावसायिक गतिविधियों पर कोई नियंत्रण नहीं था, जिसमें उन्हें निदेशक और शेयरधारक माना जाता था।*

*उन्होंने कहा कि इस तरह की कंपनियों का उपयोग कई उद्देश्यों के लिए किया गया है, जैसे कि फर्जी खर्चों की बुकिंग और सूचीबद्ध कंपनियों से लाभ कमाना, निवेश करने के लिए उनकी करीबी कंपनियों में फंड को स्थानांतरित करना और सर्कुलर लेनदेन करना आदि। आयकर विभाग ने विज्ञप्ति में यह भी कहा कि मीडिया हाउस ने खनन, प्रसंस्करण और शराब, आटा व्यवसाय, अचल संपत्ति की बिक्री के माध्यम से 90 करोड़ रुपए की बड़ी आय अर्जित की। आयकर विभाग ने पाया है कि डीबी समूह की कई कंपनियों ने फर्जी खर्च बुक किया है और सूचीबद्ध कंपनियों के मुनाफे में से 700 करोड़ की राशि का गबन किया है।*

*🚩अबतक पता चला है कि इन तरीकों का इस्तेमाल आयकर देने से बचने के लिए किया गया है। इसके अलावा कंपनी अधिनियम के S.2 (76) (vi) और सूचीबद्ध कंपनियों के लिए सेबी द्वारा निर्धारित लिस्टिंग समझौते के खंड 49 का उल्लंघन शामिल है। बेनामी लेनदेन निषेध अधिनियम के आवेदन की भी जाँच की जाएगी।*
https://twitter.com/OpIndia_in/status/1419137833156100099?s=19

*🚩आपको ये भी बता दें कि भास्कर के मालिक पर भी रेप का आरोप लगा था पर कहीं खबर नहीं छापी थी और अखबार के नाम पर शराब का धंधा करना, जमीन हड़पना, अखबार में विज्ञापन नहीं देने पर व्यापारियों को ब्लैकमेल करना, साधु-संतों के खिलाफ झूठी कहानियां बनाकर उनको बदनाम करना, हिन्दू त्यौहार का विरोध करना- ये सब भास्कर ग्रुप कर रहा है। अब जनता की मांग है कि ऐसे अखबार पर तुरंत प्रतिबंध लगा देना चाहिए।*

ऐसा क्यों होता है कि हमारे देश में हिंदू संतो को न्याय मिलने में कई साल लग जाते हैं जबकि नेता अभिनेता मौलवी पादरी तुरंत ...
24/07/2021

ऐसा क्यों होता है कि हमारे देश में हिंदू संतो को न्याय मिलने में कई साल लग जाते हैं जबकि नेता अभिनेता मौलवी पादरी तुरंत जमानत पर बाहर आ जाते हैं। #क्या_कानून_समान_है ??
क्यों अब तक Sant Shri Asharamji Bapu के साथ न्याय नहीं हुआ???

ऐसा क्यों होता है कि हमारे देश में हिंदू संतो को न्याय मिलने में कई साल लग जाते हैं जबकि नेता अभिनेता मौलवी पादरी तुरंत जमानत पर बाहर आ जाते हैं। #क्या_कानून_समान_है ??
क्यों अब तक Sant Shri Asharamji Bapu के साथ न्याय नहीं हुआ???

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹हे प्रभु गुरु कृपा ही केवलम् *   सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,हजारों फूल देखे हैं...
10/07/2021

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
हे प्रभु गुरु कृपा ही केवलम् *

सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,

हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,
खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
💐💐🌹🌸🌹🌸🌹🌸 💐💐

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
हे प्रभु गुरु कृपा ही केवलम् *

सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,

हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,
खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
💐💐🌹🌸🌹🌸🌹🌸 💐💐

Address

Mumbai
Mahalakshmi
400059

Alerts

Be the first to know and let us send you an email when Asaramji Bapu News posts news and promotions. Your email address will not be used for any other purpose, and you can unsubscribe at any time.

Videos

Nearby government services

Comments

🚩 *भगवान शिवजी ने अफगानिस्तान में अंग्रेज अफसर की बचाई थी जान* 🚩 *ज्यादातर हिंदू धर्म के लोग ही भगवान शिव को मानते हैं, उनकी पूजा करते हैं, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताने जा रहे हैं, जो अंग्रेज था और वो भगवान शिव के प्रति सच्ची श्रद्धा रखता था। उसका दावा था कि एक बार खुद भगवान शिव उसकी जान बचाने के लिए अफगानिस्तान चले गए थे। इस अंग्रेज की कहानी बेहद ही हैरान करने वाली है।* 🚩 *सन 1879 की बात है । भारत में ब्रिटिश शासन था, उन्हीं दिनों अंग्रेजों ने अफगानिस्तान पर आक्रमण कर दिया । इस युद्ध का संचालन आगर मालवा ब्रिटिश छावनी के लेफ़्टिनेंट कर्नल मार्टिन को सौंपा गया था । कर्नल मार्टिन समय-समय पर युद्ध-क्षेत्र से अपनी पत्नी को कुशलता के समाचार भेजता रहता था । युद्ध लंबा चला और अब तो संदेश आने भी बंद हो गये । लेडी मार्टिन को चिंता सताने लगी कि 'कहीं कुछ अनर्थ न हो गया हो, अफगानी सैनिकों ने मेरे पति को मार न डाला हो । कदाचित पति युद्ध में शहीद हो गये तो मैं जीकर क्या करूँगी ?'- यह सोचकर वह अनेक शंका-कुशंकाओं से घिरी रहती थी ।* 🚩 *चिन्तातुर बनी वह एक दिन घोड़े पर बैठकर घूमने जा रही थी । मार्ग में किसी मंदिर से आती हुई शंख व मंत्र ध्वनि ने उसे आकर्षित किया । वह एक पेड़ से अपना घोड़ा बाँधकर मंदिर में गयी । बैजनाथ महादेव के इस मंदिर में शिवपूजन में निमग्न पंडितों से उसने पूछा :"आप लोग क्या कर रहे हैं ?" एक वृद्ध ब्राह्मण ने कहा : " हम भगवान शिव का पूजन कर रहे हैं ।" लेडी मार्टिन : 'शिवपूजन की क्या महत्ता है ? ब्राह्मण :' बेटी ! भगवान शिव तो औढरदानी हैं, भोलेनाथ हैं । अपने भक्तों के संकट निवारण करने में वे तनिक भी देर नहीं करते हैं । भक्त उनके दरबार में जो भी मनोकामना लेकर के आता है, उसे वे शीघ्र पूरी करते हैं, किंतु बेटी ! तुम बहुत चिन्तित और उदास नजर आ रही हो ! क्या बात है ?"* 🚩 *लेडी मार्टिन :" मेरे पतिदेव युद्ध में गये हैं और विगत कई दिनों से उनका कोई समाचार नहीं आया है । वे युद्ध में फँस गये हैं या मारे गये है, कुछ पता नहीं चल रहा । मैं उनकी ओर से बहुत चिन्तित हूँ |" इतना कहते हुए लेडी मार्टिन की आँखे नम हो गयीं । ब्राह्मण : "तुम चिन्ता मत करो, बेटी ! शिवजी का पूजन करो, उनसे प्रार्थना करो, लघुरूद्री करवाओ । भगवान शिव तुम्हारे पति का रक्षण अवश्य करेंगे । "* 🚩 *पंडितों की सलाह पर उसने वहाँ ग्यारह दिन का 'ॐ नमः शिवाय' मंत्र से लघुरूद्री अनुष्ठान प्रारंभ किया तथा प्रतिदिन भगवान शिव से अपने पति की रक्षा के लिए प्रार्थना करने लगी कि "हे भगवान शिव ! हे बैजनाथ महादेव ! यदि मेरे पति युद्ध से सकुशल लौट आये तो मैं आपका शिखरबंद मंदिर बनवाऊँगी ।" लघुरूद्री की पूर्णाहुति के दिन भागता हुआ एक संदेशवाहक शिवमंदिर में आया और लेडी मार्टिन को एक लिफाफा दिया । उसने घबराते-घबराते वह लिफाफा खोला और पढ़ने लगी ।* 🚩 *पत्र में उसके पति ने लिखा था :"हम युद्ध में रत थे और तुम तक संदेश भी भेजते रहे लेकिन अचानक पठानी सेना ने घेर लिया । ब्रिटिश सेना कट मरती और मैं भी मर जाता । ऐसी विकट परिस्थिति में हम घिर गये थे कि प्राण बचाकर भागना भी अत्याधिक कठिन था ।| इतने में मैंने देखा कि युद्धभूमि में भारत के कोई एक योगी, जिनकी बड़ी लम्बी जटाएँ हैं, हाथ में तीन नोंकवाला एक हथियार (त्रिशूल) इतनी तीव्र गति से घुम रहा था कि पठान सैनिक उन्हें देखकर भागने लगे । उनकी कृपा से घेरे से हमें निकलकर पठानों पर वार करने का मौका मिल गया और हमारी हार की घड़ियाँ अचानक जीत में बदल गयीं । यह सब भारत के उन बाघाम्बरधारी एवं तीन नोंकवाला हथियार धारण किये हुए (त्रिशूलधारी) योगी के कारण ही सम्भव हुआ । उनके महातेजस्वी व्यक्तित्व के प्रभाव से देखते-ही-देखते अफगानिस्तान की पठानी सेना भाग खड़ी हुई और वे परम योगी मुझे हिम्मत देते हुए कहने लगे । घबराओं नहीं । मैं भगवान शिव हूँ तथा तुम्हारी पत्नी की पूजा से प्रसन्न होकर तुम्हारी रक्षा करने आया हूँ, उसके सुहाग की रक्षा करने आया हूँ ।"* 🚩 *पत्र पढ़ते हुए लेडी मार्टिन की आँखों से अविरत अश्रुधारा बहती जा रही थी, उसका हृदय अहोभाव से भर गया और वह भगवान शिव की प्रतिमा के सम्मुख सिर रखकर प्रार्थना करते-करते रो पड़ी ।* 🚩 *कुछ सप्ताह बाद उसका पति कर्नल मार्टिन आगर छावनी लौटा । पत्नी ने उसे सारी बातें सुनाते हुए कहा : "आपके संदेश के अभाव में मैं चिन्तित हो उठी थी लेकिन ब्राह्मणों की सलाह से शिवपूजा में लग गयी और आपकी रक्षा के लिए भगवान शिव से प्रार्थना करने लगी । उन दुःखभंजक महादेव ने मेरी प्रार्थना सुनी और आपको सकुशल लौटा दिया ।" अब तो पति-पत्नी दोनों ही नियमित रूप से बैजनाथ महादेव के मंदिर में पूजा-अर्चना करने लगे । अपनी पत्नी की इच्छा पर कर्नल मार्टिन मे सन 1883 में पंद्रह हजार रूपये देकर बैजनाथ महादेव मंदिर का जीर्णोंद्वार करवाया, जिसका शिलालेख आज भी आगर मालवा के इस मंदिर में लगा है । पूरे भारतभर में अंग्रेजों द्वार निर्मित यह एकमात्र हिन्दू मंदिर है ।* 🚩 *यूरोप जाने से पूर्व लेडी मार्टिन ने पड़ितों से कहा : "हम अपने घर में भी भगवान शिव का मंदिर बनायेंगे तथा इन दुःख-निवारक देव की आजीवन पूजा करते रहेंगे ।"* 🚩 *हिंदू भगवान, वैदिक मंत्र और हिंदू साधु-संतों में अथाह शक्ति है पर विडंबना है कि हम भारतवासी आज इनकी महत्ता भूल गए हैं और पाश्चात्य संस्कृति की तरफ जाकर अपना पतन खुद कर रहे है, अब समय है फिर से हमें अपनी संस्कृति की तरफ लौटने का...।*
*🚩दैनिक भास्कर को केवल हिंदू त्यौहार से ही पेट में दर्द क्यों हो रहा है?* *🚩कुछ दिन पहले देवशयनी एकादशी मनाई गई। उस समय दैनिक भास्कर ने अपने अखबार में हैडिंग में लिखा, "देवशयनी एकादशी पर बांके बिहारी मंदिर में सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाई।"* *जबकि अभी कुछ दिन पहले ईद पर भास्कर ने अखबार के हैडिंग में लिखा, "मस्जिदों में सामूहिक नमाज अदा करके बकरी ईद मनाया।"* *भास्कर का यही दोगलापन है; हमेशा हिन्दू विरोधी खबरें छापता है। साधु-संतों के विरोध में भी झूठी खबरें बनाता है। अब मंदिर में सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाई गई और मस्जिद में ईद मनाया गया, वाह रे भास्कर तेरा ये दोगलापन कहाँ से आता है? हिंदू धर्म से इतनी नफरत क्यों हो रही है?* *🚩भास्कर के ₹2,200 करोड़ के फर्जी लेनदेन की जाँच, ₹700 करोड़ की आय पर टैक्स चोरी का खुलासा* *🚩टैक्स चोरी के आरोपों का सामना कर रहे दैनिक भास्कर को लेकर आयकर विभाग ने बड़ा दावा किया है। आईटी विभाग ने शनिवार (24 जुलाई) को दावा किया कि दैनिक भास्कर मीडिया समूह के कई कार्यालयों पर छापेमारी के दो दिन बाद 2,200 करोड़ रुपए के ‘काल्पनिक लेनदेन’ का पता चला है। वहीं, मीडिया समूह की तलाशी में छह वर्षों में ₹700 करोड़ की आय पर अवैतनिक कर, शेयर बाजार के नियमों का उल्लंघन और लिस्टेड कंपनियों से लाभ की हेराफेरी के आयकर विभाग को सबूत मिले हैं।* *🚩आयकर विभाग ने प्रेस रिलीज में बताया, ”22 जुलाई को आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 132 के तहत एक प्रमुख व्यवसायी समूह पर तलाशी अभियान चलाया गया, जो मीडिया, बिजली, कपड़ा और रियल एस्टेट सहित विभिन्न क्षेत्रों के व्यवसायों में शामिल है। इस ग्रुप का सालाना 6,000 करोड़ का टर्न ओवर है। मुंबई, दिल्ली, भोपाल, इंदौर, नोएडा और अहमदाबाद सहित 9 शहरों में फैले 20 आवासीय और 12 व्यावसायिक परिसरों को कवर किया गया है।* *🚩इस ग्रुप में होल्डिंग और सहायक कंपनियों सहित 100 से अधिक कंपनियाँ हैं। तलाशी के दौरान पता चला कि वे अपने कर्मचारियों के नाम पर कई कंपनियों का संचालन कर रहे हैं, जिनका इस्तेमाल फर्जी खर्चों की बुकिंग और फंड की रूटिंग के लिए किया गया है। तलाशी के दौरान कई कर्मचारी पाए गए, जिनके नाम शेयरधारकों और निदेशकों के रूप में इस्तेमाल किए गए थे। उन्होंने स्वीकार किया है कि उन्हें ऐसी कंपनियों के बारे में पता नहीं था और उन्होंने अपने आधार कार्ड और डिजिटल हस्ताक्षर नियोक्ता के विश्वास पर दिए थे। इसमें कुछ रिश्तेदार पाए गए, जिन्होंने स्वेच्छा से और जानबूझकर कागजात पर हस्ताक्षर किए थे, लेकिन कंपनियों की व्यावसायिक गतिविधियों पर कोई नियंत्रण नहीं था, जिसमें उन्हें निदेशक और शेयरधारक माना जाता था।* *उन्होंने कहा कि इस तरह की कंपनियों का उपयोग कई उद्देश्यों के लिए किया गया है, जैसे कि फर्जी खर्चों की बुकिंग और सूचीबद्ध कंपनियों से लाभ कमाना, निवेश करने के लिए उनकी करीबी कंपनियों में फंड को स्थानांतरित करना और सर्कुलर लेनदेन करना आदि। आयकर विभाग ने विज्ञप्ति में यह भी कहा कि मीडिया हाउस ने खनन, प्रसंस्करण और शराब, आटा व्यवसाय, अचल संपत्ति की बिक्री के माध्यम से 90 करोड़ रुपए की बड़ी आय अर्जित की। आयकर विभाग ने पाया है कि डीबी समूह की कई कंपनियों ने फर्जी खर्च बुक किया है और सूचीबद्ध कंपनियों के मुनाफे में से 700 करोड़ की राशि का गबन किया है।* *🚩अबतक पता चला है कि इन तरीकों का इस्तेमाल आयकर देने से बचने के लिए किया गया है। इसके अलावा कंपनी अधिनियम के S.2 (76) (vi) और सूचीबद्ध कंपनियों के लिए सेबी द्वारा निर्धारित लिस्टिंग समझौते के खंड 49 का उल्लंघन शामिल है। बेनामी लेनदेन निषेध अधिनियम के आवेदन की भी जाँच की जाएगी।* https://twitter.com/OpIndia_in/status/1419137833156100099?s=19 *🚩आपको ये भी बता दें कि भास्कर के मालिक पर भी रेप का आरोप लगा था पर कहीं खबर नहीं छापी थी और अखबार के नाम पर शराब का धंधा करना, जमीन हड़पना, अखबार में विज्ञापन नहीं देने पर व्यापारियों को ब्लैकमेल करना, साधु-संतों के खिलाफ झूठी कहानियां बनाकर उनको बदनाम करना, हिन्दू त्यौहार का विरोध करना- ये सब भास्कर ग्रुप कर रहा है। अब जनता की मांग है कि ऐसे अखबार पर तुरंत प्रतिबंध लगा देना चाहिए।*
ऐसा क्यों होता है कि हमारे देश में हिंदू संतो को न्याय मिलने में कई साल लग जाते हैं जबकि नेता अभिनेता मौलवी पादरी तुरंत जमानत पर बाहर आ जाते हैं। #क्या_कानून_समान_है ?? क्यों अब तक Sant Shri Asharamji Bapu के साथ न्याय नहीं हुआ???
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 हे प्रभु गुरु कृपा ही केवलम् * सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो, नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो, हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर, खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो, 💐💐🌹🌸🌹🌸🌹🌸 💐💐
❣️मेरे जोगी कौन कहता है कि आपकी तस्वीर बात नहीं करती...!!! 💕💕💕 हर सवाल का जवाब देती है बस आवाज़ नहीं करती...!!
पूज्य बापूजी के स्वास्थ्य के संदर्भ में जोधपुर हाइकोर्ट में अधिवक्ता संजीव पुनालेकर एवं धर्मराज द्वारा अर्जी डाली गई जिसमें पूज्य बापूजी को डॉ. राघवनजी का उपचार केरल के आयुर्वेदिक अस्पताल में मिले। अब कोर्ट के अनुसार डॉ. राघवनजी जोधपुर जेल में जाकर पूज्य बापूजी का उपचार करेंगें।
*🚩अमेरिकन रेनी लीन ने अपनाया हिन्दू धर्म, आशाराम बापू के लिए छेड़ा अभियान* *🚩सनातन हिंदू धर्म की महिमा जितनी भी गाई जाए- कम है; अन्य धर्म के जिन्होंने भी इसकी महिमा समझी उन्होंने हिंदू धर्म अपना लिया है।* *🚩आपको बता दें कि अमेरिकन लेखिका व सामाजिक कार्यकर्ता रेनी लीन ने सनातन हिंदूधर्म के बारे में पढ़ा, उसकी महिमा जानी और हिंदू धर्म अपना लिया। रेनी वर्तमान में Voice For India संस्था के माध्यम से भारतीय संस्कृति और समाज के उत्थान और संरक्षण में अपना योगदान दे रही हैं।* *🚩रेनी गोरक्षा, हिन्दू एकता, आयुर्वेद, कश्मीरी पंडित, बॉलीवुड का हिंदूद्वेष, भारतीय वास्तविक इतिहास पर आधारित पाठ्यक्रम की आवश्यकता आदि विषयों पर निर्भीक टिप्पणी करती आ रही हैं।* *🚩रेनी लीन ने भारत में हिन्दू संत आशारामजी बापू के सनातम धर्म व भारत देश और समाज उत्थान के कार्यों को और उनपर हो रहे अन्याय की पराकाष्ठा को देखते हुए बापू आशारामजी को रिहा करने का एक अभियान छेड़ दिया है।* *🚩रेनी ने ट्वीट करके बताया कि हिंदुओं पर हमेशा हमले होते रहते हैं। श्री आसाराम बापू के द्वारा धर्म के लिए किए गए सतत कार्यों के कारण उनपर बेबुनियाद / योजनाबद्ध छेड़छाड़ का आरोप लगाया गया था। बापूजी 2013 से जेल में हैं और कई जानलेवा खतरनाक बीमारियों से पीड़ित हैं। उन्हें तुरंत रिहा करने की आवश्यकता है।* *इस अभियान का समर्थन करें।* #freeasarambapu https://twitter.com/Voice_For_India/status/1410586092479389696?s=19 *🚩आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ऑस्ट्रेलिया की एक युवती ने भी हिंदू संत आशाराम बापू की रिहाई की मांग करते हुए वीडियो भेजा था।* https://youtu.be/YwELDddpR44 *ऑस्ट्रेलिया की युवती ग्रेलोरे सैनी ने कहा था, "आसाराम बापू 85 साल के हैं, वो कोरोना पॉजिटिव हो गए थे, वे अभी जेल में हैं। कोरोना वायरस वृद्ध लोगों के लिए ज़्यादा खतरनाक है।* *अन्य बहुत सारे अपराध करनेवाले कैदियों को छोड़ा गया है तो बापू को क्यों नहीं छोड़ा? मेरी विनती है कि बापूजी को बेल अथवा पैरोल पे छोड़ दें।"* *🚩विदेश के लोग भी संतों के साथ हो रहे अन्याय को समझकर उनकी रिहाई की अपील कर रहे हैं; भारत सरकार व न्यायालय कब रिहा करते हैं- देखते हैं।* *🚩आपको स्पष्ट कर देते हैं कि जिस समय लड़की ने छेड़छाड़ का आरोप लगाया है उस समय तो वो अपने मित्र से कॉल पर बात कर रही थी और बापू आशारामजी एक कार्यक्रम में व्यस्त थे, वहाँ पर 50-60 लोग भी थे, उन्होंने कोर्ट में गवाही भी दी है, लड़की का कॉल डिटेल भी दिया गया है फिर भी उनको जेल में रखना कहां तक उचित है?* https://youtu.be/V0sr9yHj1Go *🚩उनको साजिश के तहत फंसाना और बाहर नहीं आने देना- उसके मुख्य कारण ये हैं:-* *🚩1). लाखों धर्मांतरित ईसाइयों को पुनः हिंदू बनाया व करोड़ों हिन्दुओं को अपने धर्म के प्रति जागरूक किया व आदिवासी इलाकों में जाकर धर्म के संस्कार, मकान, जीवनोपयोगी सामग्री दी, जिससे धर्मान्तरण करानेवालों का धंधा चौपट हो गया।* *🚩2). कत्लखाने जाती हज़ारों गौ-माताओं को बचाकर उनके लिए विशाल गौशालाओं का निर्माण करवाया।* *🚩3). शिकागो विश्व धर्मपरिषद में स्वामी विवेकानंदजी के 100 साल बाद जाकर हिन्दू संस्कृति का परचम लहराया।* *🚩4). विदेशी कंपनियों द्वारा देश को लूटने से बचाकर आयुर्वेद/होम्योपैथिक के प्रचार-प्रसार द्वारा एलोपैथिक दवाइयों के कुप्रभाव से असंख्य लोगों का स्वास्थ्य और पैसा बचाया।* *🚩5). लाखों-करोड़ों विद्यार्थियों को सारस्वत्य मंत्र देकर और योग व उच्च संस्कार का प्रशिक्षण देकर ओजस्वी-तेजस्वी बनाया।* *🚩6). इंग्लैंड, पाकिस्तान, चाईना, अमेरिका और बहुत सारे देशों में जाकर सनातन हिंदू धर्म का ध्वज फहराया।* *🚩7). वैलेंटाइन डे का कुप्रभाव रोकने हेतु "मातृ-पितृ पूजन दिवस" का प्रारम्भ करवाया।* *🚩8). क्रिसमस डे के दिन प्लास्टिक के क्रिसमस ट्री को सजाने के बजाय तुलसी पूजन दिवस मनाना शुरू करवाया।* *🚩9). करोड़ों लोगों को अधर्म से धर्म की ओर मोड़ दिया।* *🚩10). नशामुक्ति अभियान के द्वारा लाखों लोगों को व्यसनमुक्त कराया।* *🚩11). वैदिक शिक्षा पर आधारित अनेकों गुरुकुल खुलवाए।* *🚩12). मुश्किल हालातों में कांची कामकोटि पीठ के "शंकराचार्य श्री जयेंद्र सरस्वतीजी", बाबा रामदेव, मोरारी बापू, साध्वी प्रज्ञा एवं अन्य संतों का साथ दिया।* *🚩13. बच्चों के लिए "बाल संस्कार केंद्र", युवाओं के लिए "युवा सेवा संघ", महिलाओं के लिए "महिला उत्थान मंडल" खोलकर उनका जीवन धर्ममय व उन्नत बनाया।* *ऐसे अनेक भारतीय संस्कृति के उत्थान के कार्य किये हैं जो विस्तार से नहीं बता पा रहे हैं।* *🚩हिंदू संत आशाराम बापू पर जिस तरह से षड्यंत्र हुआ है उसको देखते हुए और उनके द्वारा किए गये राष्ट्र-संस्कृति व समाज उत्थान के सेवाकार्य तथा उनकी उम्र का ध्यान रखते हुए न्यायालय और सरकार को उन्हें शीघ्र रिहा करना चाहिए