JanNayak Yogi

JanNayak Yogi हिन्दू ह्रदय सम्राट योगी आदित्यनाथ जी के प्रशंसकों का मंच। Like & Share this page to all Yogi ji Fans
(1)

इंटरनेट जगत में छाए यूपी के मुख्यमंत्री, लोकप्रियता की शीर्ष सूची में "हिंदू हृदय सम्राट" योगी आदित्यनाथ ने बना डाला महा...
05/11/2023

इंटरनेट जगत में छाए यूपी के मुख्यमंत्री,
लोकप्रियता की शीर्ष सूची में "हिंदू हृदय सम्राट" योगी आदित्यनाथ ने बना डाला महा-रिकॉर्ड।

सोशल मीडिया एप X पर योगी आदित्यनाथ का दिखा जलवा: फॉलोवर्स की संख्या 2.5 करोड़ पार।

लोकप्रियता के मामले में सिर्फ प्रधानमंत्री मोदी, भारतीय क्रिकेटर विराट कोहली और साउथ के एक्टर विजय ही सीएम योगी से आगे हैं।

लोकप्रियता की दौड़ में उन्होंने राहुल गांधी, शाहरुख खान, अक्षय कुमार, सलमान खान को भी बहुत पीछे छोड़ दिया।

ट्वीट बाइंडर की ओर से जारी रैंकिंग के अनुसार अक्टूबर- 2023 में इंटरनेट मीडिया पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सर्वाधिक चर्चित राजनेताओं में शुमार हैं।

सीएम योगी के पीछे हैं ये हस्तियां...

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रोहित शर्मा, अभिनेता सलमान खान, राहुल गांधी, शाहरुख खान और अक्षय कुमार भी सीएम योगी से पीछे नजर आते हैं।
इंटरनेट मीडिया पर सीएम योगी की गिनती सबसे सक्रिय और लोकप्रिय राजनेता के रूप में है। योगी के इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म (X)एक्स ( पूर्व Twitter) पर 2.65 करोड़ फॉलोअर्स हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बाद इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर जिस राजनेता के अकाउंट की सर्वाधिक चर्चा हुई है वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं।

यहां तक देश के बड़े-बड़े दिग्गज नेता नहीं पहुंच सके हैं। इतने ज्यादा फॉलोवर्स वाले योगी आदित्यनाथ पहले मुख्यमंत्री बन गए हैं।

इंस्टाग्राम पर भी उनका जादू युवाओं के सिर चढ़कर बोल रहा है। इंस्टाग्राम पर उनके फॉलोअर्स की संख्या 77 लाख का आंकड़ा पार कर चुकी है।

इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी कई अन्य इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म पर भी सक्रिय हैं।

Koo App पर भी उनके फॉलोअर्स की संख्या 68 लाख है और इस प्लेटफार्म पर वह सबसे ऊपर हैं।

हाल ही में सीएम योगी का व्हाट्सएप चैनल भी शुरू हुआ है, जिसमें करीब 15 लाख फॉलोअर्स जुड़ चुके हैं।

सितंबर, 2015 में योगी पहली बार ट्विटर पर आए थे। तब वे सांसद हुआ करते थे। 2017 में यूपी के सीएम बनने के बाद उन्होंने कानून व्यवस्था और सुशासन को लेकर अभूतपूर्व कार्य किए। जिसके बाद उनकी लोकप्रियता में हर दिन बढ़ती जा रही है।



#योगी_आदित्यनाथ

#जननायक_योगी

सत्ता के बदले उत्तर प्रदेश के हिन्दुस्तानियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए  #धन्यवाद_योगी_जी।बरेली शीशगढ़ में जेहादी...
23/08/2023

सत्ता के बदले उत्तर प्रदेश के हिन्दुस्तानियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए #धन्यवाद_योगी_जी।

बरेली शीशगढ़ में जेहादी मानसिकता के अपराधियों के खिलाफ कार्यवाही के लिए समस्त यूपीवासियों की तरफ से आपका आभार।

एक 14 साल के बच्चे की हत्या के इरादे से कुछ जेहादी मानसिकता के अपराधियों ने 5 थानों की पुलिस के सामने हजारों की भीड़ के साथ बच्चे के घर पर हमला कर दिया।

पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो पुलिस पर भी हमला कर दिया। दो नाबालिग दोस्तों के बीच हुई बातचीत को मुस्लिम समुदाय के कुछ सांप्रदायिक जहर से भरे अपराधिक प्रवत्ति के लोगों ने पूरे इलाके के मुस्लिमों को हिंदुओं के खिलाफ भड़का दिया।

सूत्रों के अनुसार पहले मुस्लिम लड़के ने हिंदू धर्म पर अभद्र टिप्पणी की और उसके खिलाफ जब हिंदू नाबालिग बच्चे ने आवेश में कोई टिप्पणी कर दी तो गुंडों को बड़ी फौज उस बच्चे की हत्या करने के इरादे से उसके घर पहुंच गए। अगर कोई गलती हुई भी थी तो संविधान के दायरे में कानूनन कार्रवाई के लिए कार्यवाही की जा सकती थी।

लेकिन जिस तरह से शीशगढ़ को नूंह बनाने की साजिश हुई उससे साफ प्रतीत होता है कि मजहब की आड़ में बरेली में कोई बड़ा हिंदू विरोधी गैंग वर्षों से किसी विदेशी ताकतों के साथ मिलकर सक्रिय है।

संविधान को न मानना और तालिबान अंदाज में भारत को खौफ में लेने की बढ़ती घटनाएं इशारा कर रही हैं कि कहीं कोई बड़ी साजिश भारत के खिलाफ पकाई जा रही है।

अब जब सरकार इस अपराध पर सख्त हुई तो हमेशा की तरह एक BTeam सक्रिय हो गई और शांति, भाई चारे, सौहार्द, धार्मिक एकता की मिसाल वाले वही 80 साल पुराने key words का use करके डैमेज कंट्रोल करने लगी।

"जो हुआ गलती समझकर माफ कर दिया जाए".... धूर्तता भरा वक्तव्य सुनिए। एक नाबालिग बच्चे की हत्या करने के इरादे से गलती से अधेड़ो की हजारों लोगों की फौज पहुंच गई? ऐसा था सिर्फ नफरत, साजिश और पूरी तैयारी के बाद योजनाबद्ध तरीके से ही होता।

धन्यवाद योगी जी, जो उत्तर प्रदेश में आपकी सरकार है। जो ईमानदारी से बिना किसी पक्षपात और सेकुलरिज्म के ड्रामे के दवाब में आए बिना प्रदेशवासियों की सुरक्षा के लिए दिए वचनों को निभा रहे हैं।।

हम आपका आभार व्यक्त करते हैं।। हम जानते हैं जाहिल लोग जिन्हें कुछ स्वार्थ, लालच और पार्टी में पद के लिए अपने बच्चों का भविष्य नहीं दिख रहा वो आज भी सेकुलरिज्म, न्याय, मानवाधिकार के नाम पर आपका विरोध करेंगे।। लेकिन आप यूं ही अपने राजधर्म का पालन करते रहिए।
पूरे देश की जनता आपके समर्थन में खड़ी है।।

जेम्स प्रिंसेप (1799-1840) के समय ज्ञानवापी: मुख्य चित्र में जेम्स प्रिंसेप (1799-1840) द्वारा  1840 से पहले के  ज्ञानवा...
09/08/2023

जेम्स प्रिंसेप (1799-1840) के समय ज्ञानवापी:
मुख्य चित्र में जेम्स प्रिंसेप (1799-1840) द्वारा 1840 से पहले के ज्ञानवापी का सजीव चित्र ली गई है। तब उस समय तीन गुम्बद नहीं थी। मुख्य गुम्बद जिसे आज हम सेन्ट्रल डोम कहते हैं , मुख्य मंदिर का हिस्सा थी जिसके भीतर प्रवेश करके शिवलिंग तक आस्थावान लोग पहुंचते थे। यह शिवलिंग तक पहुंचने का प्रवेश द्वार थी। 1840 के पहले विभिन्न ईंटों से जोड़कर यह रास्ता बंद कर दी गई। इस बंद द्वार के पास ही भगवान शिव की पूजा अर्चना, भक्त करते थे। आज आधुनिक समय में यह स्थान चिकने पत्थर में जुड़ाई करके मिलती है। जेम्स प्रिंसेप के समय के ढाँचे को परिवर्तित कर दी गई है । ज्ञानवापी का प्रवेश द्वार "पान पत्र" के अलंकृत श्रृंखला से निर्मित है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के लिए यह एक महत्वपूर्ण अभिलेख साक्ष्य है। यह चित्र कई चीजें स्पष्ट करती है। जेम्स प्रिंसेप के समय ज्ञानवापी, टूटी मंदिर है।
Source: James Prinsep (1799-1840) in his book "Benares Illustrated, A Series of Drawings"

उत्तर प्रदेश का गौरव पुनः वापस दिलाने के प्रयासों में लगे योगी आदित्यनाथ महाराज को हार्दिक शुभकामनाएं।
06/06/2023

उत्तर प्रदेश का गौरव पुनः वापस दिलाने के प्रयासों में लगे योगी आदित्यनाथ महाराज को हार्दिक शुभकामनाएं।

यूपी में न्याय बा, गुंडों में खौफ बा। योगी की सरकार बा, सुरक्षित समाज बा। गुंडे, माफिया, हत्यारे अतीक का बेटा मारा गया। ...
13/04/2023

यूपी में न्याय बा, गुंडों में खौफ बा।
योगी की सरकार बा, सुरक्षित समाज बा।

गुंडे, माफिया, हत्यारे अतीक का बेटा मारा गया।

मिडिया चाहे कितना जोर लगा ले, माफिया चाहे कितनी भी गोटें सेट कर ले। होता वही है जो अल्लाह चाहता है।

कहते हैं ना अल्लाह की इच्छा के बिना कुछ नहीं होता। अल्लाह बुरे काम का फल जरूर देता है।। वो न्यायकारी है। जिनके ऊपर इस पूर्व सपा सांसद के गुंडों ने अत्याचार किया वो सब भी तो अल्लाह के ही बच्चे थे। उनकी हाय की आवाज भी तो अल्लाह तक जरूर पहुंची होगी ना।

शासन का सिस्टम तूने हैक कर रखा होगा लेकिन अल्लाह का सिस्टम कोई कंट्रोल नहीं कर सकता। काश ये बात ये सभी गुंडे समझ पाते।

गुंडे की मौत.. कितने ही पीड़ितों के लिए एक शुभ समाचार है। उत्तर प्रदेश पुलिस बधाई की पात्र है।

यूपी में बाबाजी का इक़बाल क़ायम.. पुलिस ने प्रयागराज हत्याकांड के एक और शूटर उस्मान को एनकाउंटर में मिट्टी में मिलाया। प...
06/03/2023

यूपी में बाबाजी का इक़बाल क़ायम.. पुलिस ने प्रयागराज हत्याकांड के एक और शूटर उस्मान को एनकाउंटर में मिट्टी में मिलाया।
प्रयागराज के उमेशपाल शूटआउट में मारे गए शूटर का असली नाम विजय कुमार है लेकिन अतीक अहमद ने धर्मांतरण कर उसका नाम बदलकर उस्मान छर्रा कर दिया।
अतीक ने अहमदाबाद में एक फ्लैट भी उस्मान के नाम पर खरीद रखा था। जो लोग अतीक से मिलने गुजरात जेल जाते थे, वो इसी फ्लैट पर रुकते थे। युवकों का ब्रेन वाश अपराधी बनाने तक किया जा रहा है कि वो अपनी जान की परवाह किए बिना हत्या जैसे क्राइम भी कर डालते हैं..पर यूपी में न कोई अपराधी बचेगा न माफिया।

बाबाजी बहुत हार्ड हैं।

साभार-

27/02/2023
उत्तर प्रदेश, गुजरात में एंटी इनकम्बेंसी क्यों नहीं होती? दिल्ली में भाजपा नेता MCd हार में अपनी गलतियां स्वीकार करने के...
08/12/2022

उत्तर प्रदेश, गुजरात में एंटी इनकम्बेंसी क्यों नहीं होती?

दिल्ली में भाजपा नेता MCd हार में अपनी गलतियां स्वीकार करने के बजाय लीपापोती करने में लगे हैं। एक से एक कुतर्क दिये जा रहे हैं।

सच्चे समर्थक निराश और नाराज़ हैं लेकिन भाजपा के लाभार्थी, स्वार्थी, ठेकार्थी नेता MCD हार पर मेकअप पोतने में लगे हैं।

दिल्ली की जनता मुफ्तखोर है, मुफ्त के लिये केजरीवाल के साथ चले गये तो ये ही जनता दिल्ली में लोकसभा क्यों जिताती है भाजपा को?

हिन्दू गद्दार है तो वही हिन्दू उत्तर प्रदेश, असम, गुजरात क्यों जिताता है आपको?

दिल्ली में रोहिंग्या ने केजरीवाल को जिता दिया तो अगर रोहिंग्या भारत में हैं तो उसके जिम्मेदार भाजपा सरकार है या फिर केजरीवाल ?

लोग जातिवाद पर वोट देते हैं। तो उत्तर प्रदेश में भयंकर जात-पात के बाबजूद योगी जी इतनी बड़ी जीत कैसे हासिल की?

मायावती जैसी इतनी बड़ी छवि की नेता जो नेता कम बल्कि सबसे बड़े वोट बैंक के लिये देवी समान थीं।

मुलायम सिंह जैसे इतने ताकतवर व घाघ नेता और इतने बड़े समाज के लिये पीर समान.. फिलहाल मुस्लिमों के सबसे भरोसेमंद नेता।

Anti इनकंबेंसी का असर उत्तर प्रदेश में क्यों नहीं हुआ.. ढाई दशक से गुजरात में क्यों नहीं है?

* किसकी जिम्मेदारी है विधायकों, सांसदों, जनप्रतिनिधियों के व्यवहार, आचरण का फीडबैक लेना??
* चापलूसों की भीड़ छटनी करना और जुझारू कार्यकर्ताओं को कमान देने का काम किसका है?
* जनहित की योजनाओं का प्रचार कौन करेगा?

ईसाई लॉबी, मुस्लिम लॉबी, खालिस्तान लॉबी ने केजरीवाल को चुनाव लड़ाया। तो आपने जनता के टैक्स से मौलानाओं की सैलरी पर शोर क्यों नहीं मचाया? आपने क्यों मन्दिरों के जीर्णोद्धार, पुजारियों की तनख्वाह की बात नहीं कही??

और ये सब तो UP में भी था। बल्कि दिल्ली से ज्यादा मुस्लिम UP में हैं। देवबंद और बरेलवी जैसे बड़े मसलकों का गढ़ है।
भयंकर जातपात होने के बाबजूद योगी जी कैसे जीत गये??

** क्योंकि योगी जी ने हिंदुओं को विश्वास दिलाया कि मैं तुम्हारे साथ हूँ। फिर हिंदुओं ने भी जातपात साइड कर दिया, जाति के ठेकेदारों को ठेंगा दिखा दिया, केजरीवाल , कांग्रेस, अखिलेश की फ्री योजनाओं के लालच छोड़ दिया और एकजुट होकर योगी जी का साथ दिया।

** गर्व होता है मुझे कहते हुए कि मेरे उत्तर प्रदेश में योगी जी के व्यक्तित्व, चरित्र एवं सनातन प्रेम के कारण आज उत्तर प्रदेश के राजनीतिक परिदृश्य में जातिवाद खत्म होता जा रहा है। सभी जाति की हिन्दू जनता एक सनातन के सूत्र में बंधती जा रही है।

** क्योंकि सोच सनातन तो वोट कमल... ये सीधा गणित है। लेकिन आप तो दिल्ली में सेकुलर बनने चले थे... तो लो जनता भी सेकुलर बन गयी। वो भी फ्री योजनाओं पर चली गयी। तुम अल्पसंख्यक मोर्चों को ही सहलाते रहो।

दिल्ली में हिंदुओं की हत्यायें होती रहीं और उनकी उपेक्षा की जाती रही। कोई भाजपा नेता उनके लिये संघर्ष करते नहीं दिखा।

भाजपा नेताओं को समझना होगा कि जनता ने आपको सत्ता दी है तो उसे सुरक्षा दो, सम्मान दो। हिन्दू उससे ज्यादा कुछ नहीं मांगता।।

भाजपा नेता अपनी समीक्षा करें, IT cell
जितनी मेहनत अब डिफेंस करने में कर रहा है उतनी मेहनत भाजपा के प्रचार में कर रहा होता तो आज बेहतर तस्वीर होती।
चापलूस कुछ दिन शांत बैठें, कुतर्क न दें, हिन्दू जनता को न कोसें।

तुम जैसों ने अपने वरिष्ठ नेताओं को सही तस्वीर दिखाने की हिम्मत की होती तो आज भाजपा पंजाब, बंगाल, दिल्ली, बिहार, राजस्थान में इतने बुरे दौर में नहीं होती।

सारी समीक्षा का एक ही सार है कि सत्ता में रहना है तो बहुसंख्यक आबादी, हिंदुओं को सुरक्षा, सम्मान और समृद्धि दो।

जनसँख्या विस्फोट तुरंत रोको, हमारे टैक्स के पैसे से 4-4 बीबी और 17-17 बच्चे नहीं पाले जायें।
हिंदुओं के प्रति उदासीन रवैये ने भाजपा ने दिल्ली की जनता को हतोत्साहित किया है।

अगर आप भाजपा को प्यार करते हैं तो उनकी गलतियों को कवर देना बंद कीजिये।

pandey

'भारत अब भगवा युग में प्रवेश कर चुका है'-- योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री चुने जाने पर कई तरह की आपत्तिया...
26/11/2022

'भारत अब भगवा युग में प्रवेश कर चुका है'
--

योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री चुने जाने पर कई तरह की आपत्तियां उठाई गईं. इनमें से एक आपत्ति यह है कि वह कट्टर हैं और इस वजह से अल्पसंख्यकों के मन में डर पैदा होगा.

यह आपत्ति कोई नहीं है. जब भी हिन्दुत्व आंदोलन से निकला आदमी राज्य सत्ता की तरफ़ बढ़ता है तो उस पर इसी तरह की आपत्तियां उठाई जाती रही हैं.

उदाहरण के तौर पर जब अमित शाह भारतीय जनता पार्टी की अध्यक्ष बने तो उनके विकृत स्वरूप को प्रस्तुत करने की कोशिश की गई.

इसके पहले जब नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बनने वाले थे तो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों स्तरों पर अल्पसंख्यक विरोधी और भारत की पंथनिरपेक्ष व्यवस्था के ख़िलाफ़ काम करने वाले राजनेता के रूप में प्रस्तुत किया गया.

इस प्रकार की अवधारणा के पीछे एक बड़ा कारण है. वास्तव में इस देश की जो बौद्धिकता है और उसमें जो कुलीनता आई है, उसकी वजह से जनबौद्धिकता और कुलीन बौद्धिकता में एक बड़ा अंतर आ गया है.

जो जन बौद्धिकता है वह अपने ढंग से भारत की परिभाषा को देखता है, भारत की परंपरा को देखता है और वह सहज रूप से चीज़ों को स्वीकार करता है.

दूसरी तरफ़ भारत की जो प्रभावशाली बौद्धिकता है, जिसमें मार्क्सवादी हैं, नेहरूवादी हैं और पश्चिम के साथ समझ रखने वाले लोग हैं, उन्होंने एक प्रकार की ज़मींदारी स्थापित कर ली है. वो जो सोचते हैं, बोलते हैं और समझते हैं उसी को आदर्श मानते हैं. वो चाहते हैं कि मतदाता भी वैसा ही व्यवहार करे.

इसने कुलीन बौद्धिकता और जन बौद्धिकता के अंतर को बढ़ाया, लेकिन एक समानांतर नैरेटिव भी इस देश में काम कर रहा था, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का.

वो ज़मीन पर आदिवासियों के बीच में, दलितों के बीच में, मजदूर और किसानों को बीच में अपने विभिन्न संगठनों को ज़रिए काम और देश की विरासत की बात करता रहा.

परिवर्तन सामाजिक और सांस्कृतिक स्तर पर -- इसे सहज रूप में जनता स्वीकार करती रही. लेकिन मतदान के रूप में इसका असर जल्दी नहीं दिखा. जो परिवर्तन आ रहा था वो सामाजिक और सांस्कृतिक स्तरों पर तो दिखाई पड़ रहा था पर राजनीतिक स्तर पर बहुत लंबे समय तक दिखाई नहीं पड़ा.

उसका कारण था कि कुलीन बौद्धिकता, राजसत्ता और पश्चिम के प्रभाव वाले बुद्धिजीवियों ने मिलकर भारत की जनबौद्धिकता को लंबे समय तक उलझन में और एक अपराधबोध में रखने का काम किया.

हिन्दुत्व आंदोलन ने उस जनबौद्धिकता को अपराधबोध और द्वंद्व से बाहर निकालने का काम किया. इसमें 2014 का सत्ता परिवर्तन एक महत्वपूर्ण अध्याय है. यह केवल भारतीय जनता पार्टी और नरेंद्र मोदी का सत्ता में आना नहीं है, बल्कि ये एक वैचारिक परिवर्तन है.

देश में एक नई परिभाषा आई और नया वातावरण बना. एक नए प्रकार का राजनीतिक पर्यावरण बना. बौद्धिकता उसको अब भी स्वीकार नहीं कर पा रही है और जिसे मतदाताओं ने बार-बार ख़ारिज किया है.

यहां सिर्फ़ कांग्रेस, वामपंथ और क्षेत्रीय पार्टियों को ख़ारिज नहीं किया जा रहा है बल्कि उन बौद्धिक ताक़तों को भी ख़ारिज किया जा रहा है जो देश को चलाने का दंभ भरते हैं.

योगी पर आरएसएस का ठप्पा

इसीलिए आज जब योगी आदित्यनाथ यूपी के मुख्यमंत्री बन रहे हैं तो कई तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं कि उनपर आरएसएस का ठप्पा है, कि वो कट्टर हिंदुत्ववादी हैं.

राज्यसत्ता पर जो पिछले 70 सालों से जमे थे उन्होंने और कुलीन बुद्धिजीवियों ने लोगों को समझाया था कि हिन्दुत्व का मतलब प्रतिक्रियावाद, सांप्रदायिकता, मंदिर निर्माण और अल्पसंख्यक विरोधी होता है.

हिन्दुत्व एक समावेशी विचारधारा है जिसे लेकर संघ और बीजेपी चल रही है. यह हमारी राष्ट्रीयता के समकक्ष है. ऐसा नहीं मानने वालों ने सिर्फ़ आदित्यनाथ ही नहीं बल्कि जिस बीडी सावरकर का स्वतंत्रता आंदोलन में बड़ा योगदान था, उन्हें भी बदनाम करने का काम किया.

डॉ हेडगवार और गोलवलकर जैसे नेताओं को शैतान बताने का काम किया. मोहन भागवत और नरेंद्र मोदी के साथ भी वही काम किया गया. जो भी हिन्दुत्व की ताक़तें आती हैं उन्हें राक्षसी स्वरूप में पेश कर जनता को भरमाने का किया जाता रहा है. अब वह युग ख़त्म हो गया है.

अब भारत ने नए युग में प्रवेश कर लिया है. वह युग है भगवा युग. भगवा युग का मतलब है किसी एक विचारधारा का प्रभाव नहीं बल्कि भारत की जो सहज संस्कृति और सभ्यता रही है उस आईने में भारत ख़ुद को देखना चाहता है.

पश्चिम के आईने के भारत को ख़ुद को नहीं देखना चाहता है.

योगी के मुख्यमंत्री बनने पर जो ख़ुशी की लहर है उसमें मुसलमान भी शामिल हैं. जो मुस्लिम समुदाय के लोग उनके क्षेत्र में रहते हैं उन्हें आज तक ऐसा कोई अनुभव नहीं हुआ कि वह भेदभाव करते हैं.

ये जो धारणाएं बनाई जाती हैं, उसमें मीडिया की बड़ी भूमिका होती है. तथ्य, व्याख्या और धारणा- ये तीन बातें होती हैं. भारतीय विमर्श में हिंदुत्व के संदर्भ में धारणाओं को सबसे आगे रखा गया है, तथ्य और व्याख्या आने तक चीजें ख़त्म हो जाती हैं.

अब लोग तथ्यों से चीज़ों का आकलन कर रहे हैं. लोगों ने जब ऐसा शुरू किया तो पाया कि भारतीय जनता पार्टी की छवि जैसी बनाई गई वो हक़ीकत नहीं है. अल्पसंख्यकवाद के पिंजरे में देश की आत्मा को क़ैद कर दिया गया था.

पंथनिरपेक्षता का मतलब-

पंथनिरपेक्षता मतलब होता था कि आप कितनी बार मुस्लिम शब्द का उच्चारण करते हैं, उनके हित की बात करते हैं। देश को बहुसंख्यक और अल्पसंख्यकों में बांटा गया था. ये यहां की परम्परा नहीं थी, ये बात अंग्रेज़ों ने डाली थी.

संघ का जो नैरेटिव है वह इन नकारात्मक चीजों को तोड़ने वाला है. जबिक संघ को ही इन विकृतियों का पर्याय बनाने की कोशिश होती रही. अवैद्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने से दो बातें साफ हो गईं.

पहली, अपराधबोध की राजनीति नहीं हो सकती. दूसरे, इस देश में एक समुदाय का वीटो पंथनिरपेक्षता और लोकतंत्र को वीटो नहीं कर सकता. सामुदायिक वीटो की राजनीति अंग्रेज़ों ने शुरू की और भाजपा ने 2014 के बाद ख़त्म कर दिया है.

अब मुस्लिम समुदाय के बीच भी आत्मलोचना का दौर शुरू हो गया है. इसीलिए तो मुस्लिम महिलाएं अपने समुदाय के नेताओं और छद्म धर्मनिरपेक्ष नेताओं को दरकिनार कर न केवल बीजेपी को वोट दे रही हैं बल्कि उसके उठाए जा रहे मुद्दों के साथ खड़ी हो रही
योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बारे में कुछ बातें स्पष्ट होनी चाहिए. वो ईमानदार छवि और दबंग व्यक्तित्व वाले हैं. इसका प्रशासन पर ज़रूर असर होगा.

दूसरे, बिहार के उलट यूपी में सामाजिक आंदोलन के चलते सामंतवाद हाशिए पर चला गया था, वहां कुछ ऐसे हैं जो जातियों के नाम पर समाज पर नियंत्र करना चाहते हैं।

ऐसे लोगों को समाप्त करना और विकास की ओर ले जाना आसान हो जाएगा।

1950 के दशक में देश की जीडीपी में राज्य का हिस्सा 60 प्रतिशत हुआ करता था जो अब 7 प्रतिशत तक रह गया है.

योगी आदित्यनाथ के सामने प्रदेश की जीडीपी को ऊंचे स्तर तक ले जाने और सांस्कृतिक विरासत को आगे बढ़ाने को लेकर उनके समने अवसर भी है और चुनौती भी है।

बीबीसी लेख-- 'भारत अब भगवा युग में प्रवेश कर चुका है' -- राकेश सिन्हा (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ विचारक) 19 मार्च 2017

जब पूरी सृष्टि ही महादेव की .. तो क्या भारत, क्या चीन, क्या अमेरिका और अफगानिस्तान... ? सनातन ही शाश्वत है, सनातन ही सत्...
24/11/2022

जब पूरी सृष्टि ही महादेव की .. तो क्या भारत, क्या चीन, क्या अमेरिका और अफगानिस्तान... ?

सनातन ही शाश्वत है, सनातन ही सत्य है... सीमाओं से परे, सबसे प्राचीन।

छठी शताब्दी की बनी हुई पेंटिंग: शिनजियांग चीन की किजिल गुफाओं में भगवान शंकर और मां पार्वती का चित्र।

जय हो योगी जी...एक शेर ही दूसरे शेर का ऐसे सम्मान कर सकता है। पूरे देश की तरफ से भी बाला साहेब को शत शत नमन व श्रद्धांजल...
17/11/2022

जय हो योगी जी...एक शेर ही दूसरे शेर का ऐसे सम्मान कर सकता है।

पूरे देश की तरफ से भी बाला साहेब को शत शत नमन व श्रद्धांजलि। 🙏🙏

यह सनातन है, यह ही सत्य है, ये ही श्रेष्ठ है।ऐसा अद्भुत पर्व किसी धर्म में नहीं है। सरयू घाट पर 17 लाख दियों से प्रज्ज्व...
25/10/2022

यह सनातन है, यह ही सत्य है, ये ही श्रेष्ठ है।
ऐसा अद्भुत पर्व किसी धर्म में नहीं है।

सरयू घाट पर 17 लाख दियों से प्रज्ज्वलित रामलला मंदिर की प्रतिकृति।

21/09/2022

झूठा कहीं...🤔
जो आदमी कैमरे के सामने अपने सगे बच्चों की झूठी कसम खा ले.. दुनिया में उससे बड़ा झूठा कौन होगा?

यमुना साफ हुयी नहीं.. अब चला है नर्मदा को गन्दा करने।

18/09/2022

पहले कबूतर छोड़े जाते थे, अब चीते छोड़े जाते हैं..

मोदी जी ने कुछ इस तरह कांग्रेस की चोक ले ली। 🤣😃

अगर आप भी योगी महाराज के समर्थक हैं तो जोर से बोलिये.. महंत योगी आदित्यनाथ जी की जय।
09/09/2022

अगर आप भी योगी महाराज के समर्थक हैं तो जोर से बोलिये..

महंत योगी आदित्यनाथ जी की जय।

बोलिये काशी विश्वनाथ महादेव की जय🙏🙏 ॐ बाबा जी जब काशी में हों और काशी के स्वामी भगवान विश्वनाथ के दर्शन ना करें ऐसा कभी ...
01/09/2022

बोलिये काशी विश्वनाथ महादेव की जय🙏🙏 ॐ

बाबा जी जब काशी में हों और काशी के स्वामी भगवान विश्वनाथ के दर्शन ना करें ऐसा कभी नहीं होता।

पिछली सरकारों के नेता तो मन्दिरों, देवताओं, भगवान, सनातन धर्म के नाम से दूरी रखते थे।

"परमार्थ निकेतन" के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी की लखनऊ में...
31/08/2022

"परमार्थ निकेतन" के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी की लखनऊ में सात्विक भेंटवार्ता।

🕉️गणेश जी विदा नहीं होंगे बल्कि हमारे साथ ही रहेंगे*

डेकोरेशन नहीं बल्कि डिवोशन के साथ इनोवेशन करें।

ऋषिकेश, 31 अगस्त। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने आज श्री गणेश चतुर्थी के पावन अवसर पर लखनऊ में मुख्यमंत्री उत्तरप्रदेश महंत श्री योगी आदित्यनाथ जी से एक सात्विक भेंटवार्ता की।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने नंदी पर विराजमान मिट्टी के श्री गणेश जी की प्रतिमा श्रद्धेय योगी जी को भेंट कर देशवासियों से पर्यावरण और नदियों को प्रदूषण मुक्त करने का आह्वान किया।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि भगवान श्री गणेश प्रथम पूज्य हैं और हमारे आराध्य हैं। श्री गणेश पूजन की दिव्य परम्परा का स्वरूप हम सभी के सामने है और यह केवल भारत में ही नहीं बल्कि विश्व के अनेक देशों में है, मैने अपनी विदेश यात्रा के दौरान देखा कि भारतीय संस्कृति और संस्कारों के प्रति प्रवासी भारतीयों की अपार श्रद्धा है इसलिये हमें अपने पर्व और त्यौहार शास्त्रोक्त विधानों के अनुसार मनाना होगा।

हम कोई भी ऐसी परम्परा का शुभारम्भ न करें जिससे हमारा पर्यावरण बिगड़ता हो, हमें उन परम्पराओं पर ध्यान देने की नितांत आवश्यकता है। हमें ऐसी परम्पराओं को अंगीकार करना होगा जिससे हमारे मूल्य भी बचे, मूल भी बचे, पर्यावरण भी बचे और पीढ़ियां भी बचे इसलिये श्री गणेश जी की स्थापना और विसर्जन तो करें लेकिन नये सर्जन के साथ करें। श्री गणेश उत्सव पर डेकोरेशन नहीं बल्कि डिवोशन के साथ इनोवेशन करें।

स्वामी जी ने कहा कि शास्त्रों में तो यह मर्यादा है कि गणेश जी की मूर्ति व प्रतिमा यज्ञ, पूजा और उत्सवों हेतु मात्र एक अंगूठे के बराबर बनाने का विधान हैं।

जब यह परम्परा प्रारम्भ हुई तब पूजा में, हवन में, यज्ञ में गोबर और मिट्टी के श्री गणेश बनाये जाते थे और फिर पूजन के पश्चात उस प्रतिमा को तालाबों में, जलाश्यों में, सरोवरों में, उनका विसर्जन किया जाता था।
हमारे शास्त्रों में श्री गणेश जी की मूर्ति को नदी में, जल में प्रवाहित करने का विधान है क्योंकि जल में गोबर और मिट्टी घुल जाती हैं और गोबर के जो गुणकारी तत्व hai, वह जाकर पानी की तलहटी में मिलते है, जिससे वे मिट्टी, पानी आदि अन्य चीजों को शुद्ध करते हैं, उससे धरती उपजाऊ बनती है तथा पर्यावरण की रक्षा भी होती है।

पर्यावरण के साथ -साथ इससे गौ माता का संरक्षण और संवर्द्धन भी सम्भव है और इस समय गौ माता और गौवंश का संरक्षण की नितांत आवश्यकता है।

स्वामी जी ने कहा कि गणेश चतुर्थी को शास्त्रोक्त विधि से मनाने पर हमारी परम्परायें भी बचेगी और पर्यावरण भी बचेगा। जो प्लास्टर आॅफ पेरिस और सिंथेटिक की प्रतिमायें हैं, वह कोई शास्त्रीय विधान के अनुसार नहीं हैं इसलिये हम भी प्लास्टिक, प्लास्टर आॅफ पेरिस, थर्मोकोल या अन्य उत्पादों से बनी प्रतिमाओं की स्थापना न करें क्योंकि इन मूर्तियों का नदियों व तालाबों में विसर्जन करने से जल प्रदूषित होगा। हमें शास्त्रों के अनुरूप एवं पर्यावरण की रक्षा करते हुये गणेश जी की स्थापना और विसर्जन करना होगा।

स्वामी जी ने हिमालय की हरित भेंट रूद्राक्ष का पौधा मुख्यमंत्री उत्तरप्रदेश, श्री योगी आदित्यनाथ जी को भेंट किया तथा देशवासियों का आह्वान करते हुये कहा कि आईये हम संकल्प लें कि हम अपने पर्व और त्योहारों को ईको फ्रेंडली तरीके से मनायेंगे जिससे हमारा पर्यावरण भी बचेगा, परम्परायें भी बचेगी, प्रकृति भी बचेगी और हमारी पीढ़ियां भी बचेगी।

साभार -- राजेश दीक्षित जी,
मीडिया मैनेजर, परमार्थ निकेतन, ऋषिकेश

27/08/2022

दुनिया में सबसे कम पढने लिखने वाली कौम???????????

दुनिया में सबसे कम विश्वसनीय कौम ???????????????

दुनिया में सबसे ज्यादा झगडालू कौम ???????????????

दुनिया में सबसे ज्यादा आतंकवादी पैदा करने वाली कौम ??????????

दुनिया में पडौसी देशों में सबसे ज्यादा घुसपैठ करने वाली कौम ???????????

दुनिया में सबसे ज्यादा अपराधिक गतिविधियों में लिप्त रहने वाली कौम ??????

दुनिया में सबसे ज्यादा बे-इज्ज़त होने वाली कौम ???????????

दुनिया की सबसे मुफ्तखोर कौम ? ?????????????????

दुनिया में सबसे ज्यादा बच्चे पैदा करने वाली कौम ?????????????????

दुनिया की सबसे ज्यादा एहसानफरामोश कौम ???????????

दुनिया में हर जगह मार खाने वाली कौम????????????

दुनिया को अपने मज़हब का अनुयायी बनाने का सपना देखने वाली कौम ????????

सवाल ढेर सारे जवाब वही एक ....

जन-जन के हृदय में राष्ट्रभक्ति के प्रांजल भाव को जागृत करते   अभियान के अंतर्गत आज अपने सरकारी आवास पर स्कूली बच्‍चों के...
13/08/2022

जन-जन के हृदय में राष्ट्रभक्ति के प्रांजल भाव को जागृत करते अभियान के अंतर्गत आज अपने सरकारी आवास पर स्कूली बच्‍चों के साथ MYogiAdityanath जी ...

आप भी अपने घर पर राष्ट्रध्वज फहराकर इस पावन राष्ट्रीय कार्य में अवश्य सहभागी बनें.

26/06/2022

Yes, He can रोक
And even he can ठोक🤣
Bcz Sitting upar is Bhagva मोंक🤣
कोई रोक सके तो रोक।

मौत का सौदागर कौन? छींक भी आ जाये तो "लोकतंत्र की हत्या" चिल्लाने वाले नेहरू-गांधी परिवार ने आज के ही दिन लोकतंत्र की सब...
25/06/2022

मौत का सौदागर कौन?

छींक भी आ जाये तो "लोकतंत्र की हत्या" चिल्लाने वाले नेहरू-गांधी परिवार ने आज के ही दिन लोकतंत्र की सबसे बड़ी हत्या की थी।

आपातकाल .. जी हाँ... लोकतंत्र पर काला धब्बा... जो इंदिरा गांधी ने अपनी कुर्सी बचाने के लिये लगाया था।

अपने बच्चों को कांग्रेस के उन जुल्मों अपराध की कहानियां जरूर सुनाइये।

1. वो बेटी, जो एक बड़ी उम्र तक घर के बाहर शौच जाने के लिए अभिशप्त थी.. अब वो भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही हैं।2. वो ल...
23/06/2022

1. वो बेटी, जो एक बड़ी उम्र तक घर के बाहर शौच जाने के लिए अभिशप्त थी.. अब वो भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही हैं।

2. वो लड़की, जो पढ़ना सिर्फ इसलिए चाहती थी कि परिवार के लिए रोटी कमा सके.. वो अब भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही हैं।

3. वो महिला, जो बिना वेतन के शिक्षक के तौर पर काम कर रही थी.. वो अब भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही हैं।

4. वो महिला, जिसे जब ये लगा कि पढ़ने-लिखने के बाद आदिवासी महिलाएं उससे थोड़ा दूर हो गई हैं तो वो खुद सबके घर जा कर 'खाने को दे' कह के बैठने लगीं.. वो अब भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही हैं।

5. वो महिला, जिसने अपने पति और दो बेटों की मौत के दर्द को झेला और आखिरी बेटे के मौत के बाद तो ऐसे डिप्रेशन में गईं कि लोग कहने लगे कि अब ये नहीं बच पाएंगी.. वो अब भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही हैं।

6. जिस गाँव में कहा जाता था राजनीति बहुत खराब चीज है और महिलाएं को तो इससे बहुत दूर रहना चाहिए, उसी गाँव की महिला अब भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही है।

7. वो महिला, जिन्होंने अपना पहला काउंसिल का चुनाव जीतने के बाद जीत का इतना ईमानदार कारण बताया कि 'वो क्लास में अपना सब्जेक्ट ऐसा पढ़ाती थीं कि बच्चों को उस सब्जेक्ट में किसी दूसरे से ट्यूशन लेने की जरूरत ही नहीं पड़ती थी और उनके 70 नम्बर तक आते थे इसीलिए क्षेत्र के सारे लोग और सभी अभिवावक उन्हें बहुत लगाव करते थे'.. वो महिला अब भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही हैं।

8. वो महिला, जो अपनी बातों में मासूमियत को जिन्दा रखते हुए अपनी सबसे बड़ी सफलता इस बात को माना कि 'राजनीति में आने के बाद मुझे वो औरतें भी पहचानने लगी जो पहले नहीं पहचानती थी'.. वो अब भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही हैं।

9. वो महिला, जो 2009 में चुनाव हारने के बाद फिर से गाँव में जा कर रहने लगी और जब वापस लौटी तो अपनी आँखों को दान करने की घोषणा की.. वो अब भारत की 'राष्ट्रपति' बनने जा रही हैं।

10. वो महिला, जो ये मानती हैं कि 'Life is not bed of roses. जीवन कठिनाइयों के बीच ही रहेगा, हमें ही आगे बढ़ना होगा। कोई push करके कभी हमें आगे नहीं बढ़ा पायेगा'.. वो अब भारत की #राष्ट्रपति बनने जा रही हैं।

दशकों-दशक से ठीक कपड़ों और खाने तक से दूर रहने वाले समुदाय को देश के सबसे बड़े 'भवन' तक पहुँचा कर भारत ने विश्व को फिर से दिखा दिया है कि यहाँ रंग, जाति, भाषा, वेष, धर्म, संप्रदाय का कोई भेद नहीं चलता।

जिनके प्रयासों से उनके गाँव से जुड़े अधिकतर गाँवों में आज लड़कियों के स्कूल जाने का प्रतिशत लड़कों से ज्यादा हो गया है, ऐसी #द्रौपदी मुर्मू जी का हार्दिक स्वागत है 🙏🏻

'राष्ट्रपति भवन' अब वास्तविकता में 'कनक भवन' बन रहा है

-- प्रधान गौरव जी से साभार

 #जननायक_योगी जी का अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर संदेश-- आदरणीय प्रधानमंत्री जी के हम सभी आभारी हैं, जिन्होंने भारतीय ऋषि प...
21/06/2022

#जननायक_योगी जी का अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर संदेश--

आदरणीय प्रधानमंत्री जी के हम सभी आभारी हैं, जिन्होंने भारतीय ऋषि परंपरा के उपहार योग को न केवल भारत में, बल्कि दुनिया में प्रतिष्ठित किया है।

आज 08वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर दुनिया के 200 से अधिक देश हमारी ऋषि परंपरा व विरासत के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित कर रहे होंगे।

21/06/2022

योग की "वेदों से विश्व तक" की यात्रा को सम्मान🙏🙏

Happy International

क्या आपको पता है कि लगभग पूरे विश्व में सिर्फ भारत की कांग्रेस, कॉमरेड, सेकुलर संगठन और मुस्लिमों द्वारा ही योग का विरोध देखा जाता है।

बस उनके हिसाब से ही योग साम्प्रदायिक साजिश है बाकी पूरे विश्व के लिये ये जीवन के लिये उपयोगी एक महत्त्वपूर्ण वैज्ञानिक exercise...

पूरी दुनिया के स्कूलों में योग एक जरुरी विषय है और बड़ी संख्या में उन देशों के लोग योग सीखते हैं ताकि उन स्कूलों में योग टीचर की जॉब पा सके, साथ ही अपने स्वास्थ्य को भी बढ़िया रख सकें। लेकिन यदि ये भारत में हो जाये तो भगवाकरण हो जायेगा।

आज पूरा विश्व योग करेगा सिवाय कांग्रेस अध्यक्षा, कांग्रेस के प्रधानमंत्री पद के दावेदार, उनके परिवार और अनुयायियों के। वैसे ऑस्ट्रेलिया रिटर्न अखिलेश जी भी आज कहीं न कहीं योग के खिलाफ जहर उगलते देखे जा सकते हैं।

जुम्मे का जौ करिहौ दंगा,शनि का मिलिहौ भूखा नंगा,रविवार का होई कुटाई,गदधा और कुक्कुर की नाई,सोमवार का पोस्टर छपिहें,मंगल ...
14/06/2022

जुम्मे का जौ करिहौ दंगा,
शनि का मिलिहौ भूखा नंगा,
रविवार का होई कुटाई,
गदधा और कुक्कुर की नाई,
सोमवार का पोस्टर छपिहें,
मंगल का बुल्डोजर चपिहेँ,
बुद्धवार का जइहौ जेल,
जुमेरात(वृहस्पति) मिलिहै ना बेल,
मठ कै यही नीति है भाई,
सुनि लेव पंचों ध्यान लगाईं,
**********************
बोलो बुल्डोजर बाबा की जय😌

08/06/2022

कानपुर हिंसा का मास्टरमाइंड, हयात जफर हाशमी के बैंक खातों से 47 करोड़ 68 लाख रुपयों का लेनदेन हो चुका है।

पुलिस ने कोर्ट से हयात जफर हाशमी को रिमांड में लेकर पूछताछ करने की माँग की है।

जानकारी के मुताबिक, विदेशी फंडिंग को लेकर जल्द ही प्रवर्तन निदेशालय जाँच कर सकता है।

हयात जफर हाशमी का बाबूपुरवा इलाके की प्राइवेट बैंक में खाता खोला गया था। जिसका अकाउंट नंबर 50014717838 है। इस अकाउंट में 30 जुलाई 2019 में 3 करोड़ 54 लाख रुपये जमा किए गए थे। इसके बाद सितंबर 2021 में 98 लाख एक साथ निकाले गए थे। इस तरह इसके 3 और बैंक खाते हैं जिससे करोड़ो का लेन देन हुआ है।

ज्यादा तर पैसे विदेश से आये है। हिन्दुओ देख लो और सोचों।

अविनाश सिंह जी की पोस्ट :

जननायक योगी को मिला महानायक मोदी का समर्थन। क्यों मोदी जी खुश हैं अपने सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री योगी से? देखिये।https:/...
08/06/2022

जननायक योगी को मिला महानायक मोदी का समर्थन। क्यों मोदी जी खुश हैं अपने सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री योगी से?
देखिये।

https://youtu.be/qFOv-aHOWVc

| | | | | | | | | | | ...

देश के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री .. योगी आदित्यनाथ जी के 50वें जन्मदिवस पर शुभकामनाएं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा 'ऊर्जावा...
05/06/2022

देश के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री .. योगी आदित्यनाथ जी के 50वें जन्मदिवस पर शुभकामनाएं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा 'ऊर्जावान मुख्यमंत्री'। मायावती जी ने सबसे पहले दी योगी जी को शुभकामनाएं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीएम योगी को जन्मदिन की बधाई देते हुए कहा, ''उत्तर प्रदेश के ऊर्जावान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी को उनके जन्मदिन पर बधाई। उनके समर्थ नेतृत्व में प्रदेश ने प्रगति की नई ऊंचाइयों को छुआ है। उन्होंने प्रदेश की जनता के लिए जन-हितैषी शासन किया है। मैं जनता की सेवा में उनके लंबे और स्वस्थ जीवन की कामना करता हूं।''

सीएम योगी को बधाई देने के मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती ने सभी को पीछे छोड़ दिया। मायावती ने सीएम योगी को सबसे पहले बधाई दी। उन्होंने सुबह 7 बजकर 48 मिनट पर ट्वीट किया। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी को आज उनके जन्मदिन पर हार्दिक बधाई और उनके दीर्घायु होने की भी कुदरत से कामना है।

02/06/2022

और इस तरह योगी जी ने अखिलेश यादव को निरमा सुपर से धो डाला। 😀😀

देखियेगा जरूर ।

Address

Noida
201304

Website

Alerts

Be the first to know and let us send you an email when JanNayak Yogi posts news and promotions. Your email address will not be used for any other purpose, and you can unsubscribe at any time.

Videos

Share

Category


Other Social Services in Noida

Show All

You may also like