Drishtee

Drishtee Born in year 2000 in India, I share a dream with marginalized rural communities for achieving shared
(10)

Drishtee is a social enterprise focused on Rural India and its entrepreneurs through whom it reaches out to the marginalized communities. It creates sustainable models that enables in generating livelihoods and costs savings for the rural citizen. Since Drishtee’s inception in 2000, it has had several successes and failures , learning’s from over the years has resulted in the evolution of an integrated 4C support for Community building, Capacity development, Channel and Capital enablement.

Drishtee aims to build capacity of rural communities on need based skill sets to help them earn sustainable livelihood.D...
11/12/2023

Drishtee aims to build capacity of rural communities on need based skill sets to help them earn sustainable livelihood.
Drishtee is honored to be a part of the incredible journey of these resilient rural women from Bihar. They're diving into a washing powder training, turning simple ingredients into opportunities for a brighter future.

Swipe left to witness the empowerment in action. Every learning moment is a step towards a sustainable and more empowered community! 🌟🌿

Empowerment in TraditionCelebrating the resilience and grace of rural women who weave the fabric of our communities with...
01/12/2023

Empowerment in Tradition
Celebrating the resilience and grace of rural women who weave the fabric of our communities with tradition and skill. From cultivating the land to crafting timeless pieces, their hands carry the wisdom of generations.
Let's honor and support the unsung heroes who keep our traditions alive.
Let us know your thoughts on empowerment through embracing traditional skills!

"


From My Vatika to Your Home:Dive into the soulful journey of a micro-enterprise group named Aparajita Micro Enterprise G...
28/11/2023

From My Vatika to Your Home:
Dive into the soulful journey of a micro-enterprise group named Aparajita Micro Enterprise Group, in the historic town of Sivasagar, Assam, as they craft the timeless allure of agarbattis and herbal soaps. They are the hands behind the magic, whose passion for agarbatti and soap making illuminates the entrepreneurial spirit within all of us. Every product they make tells a story of harmony with nature. Beyond the mesmerizing scents and quality these agarbattis and soap carry the fragrance of unity. This micro-enterprise group empowers local communities, fostering a sense of togetherness that transcends every roll of incense and with each wrap of the soap.
Let the fragrant trails of Sivasagar's Aparajita Micro Enterprise Group lead you to a world where tradition, sustainability, and community converge in symphony.
Planning a trip to Assam? Don't miss the chance to witness this micro-enterprise in action. Sivasagar welcomes you to experience the magic firsthand!

From the loom to the heart of empowerment, these rural women are weaving dreams and self-reliance through their textile ...
24/11/2023

From the loom to the heart of empowerment, these rural women are weaving dreams and self-reliance through their textile business. Embracing the rich threads of tradition and innovation, they're not just crafting fabric but also rewriting their stories. Let's celebrate their entrepreneurial spirit and the vibrant tapestry of strength they create.
"

Wishing you all a joyous and prosperous Diwali! 🎉 This festival of lights has illuminated entire Drishtee family with wa...
15/11/2023

Wishing you all a joyous and prosperous Diwali! 🎉 This festival of lights has illuminated entire Drishtee family with warmth and happiness. Here's a glimpse of the festive cheer from different location!
Swipe to see the vibrant rangoli, the heart of our Diwali decorations and the smiles of our beautiful colleagues. A huge thank you to all our employees who contributed in making this Diwali special in every location. Let the light within us shine even brighter in the coming year!

Drishtee was part of the Pre-Diwali Event organsied by PnBMetLife in their Gurugram and Mumbai Offices. We want to exten...
04/11/2023

Drishtee was part of the Pre-Diwali Event organsied by PnBMetLife in their Gurugram and Mumbai Offices. We want to extend our heartfelt gratitude to everyone who attended and made this event a resounding success and so memorable. The space was transformed into a gallery of inspiration, showcasing the work of our Rural Women Entrepreneurs. Special thanks to our partners, volunteers, the amazing field team and our women entrepreneurs who made this event possible. Your support encourages us to work harder towrads our vision.

Stay tuned for more events and initiatives that celebrate empowerment, sustainabilty and well-being.

Stories of my Vatika to your Home----"Jeevan Jyoti Mahila Udhyogi Samuh Vaibhavi Group is a remarkable collective of har...
11/10/2023

Stories of my Vatika to your Home----
"Jeevan Jyoti Mahila Udhyogi Samuh Vaibhavi Group is a remarkable collective of hardworking women who have dedicated themselves to the production of high-quality cotton wicks. Their commitment and dedication to their craft are truly commendable, as they consistently deliver top-notch cotton wicks to the market. This group not only represents the spirit of entrepreneurship but also serves as an inspiring example of how determined individuals can create a sustainable and prosperous livelihood for themselves. Their products are not just wicks; they are a testament to the empowerment and resilience of these women who have come together to make a meaningful impact in their community through their exceptional craftsmanship."

Story and Picture Credits:
Sudhanshu Ranjan
Vidushi Fellow

Join us Maan Vidushi and be a part of our jounrey of growing sustainable communities.Send your resumes at hr@drishtee.in
21/08/2023

Join us Maan Vidushi and be a part of our jounrey of growing sustainable communities.

Send your resumes at [email protected]

Today, as we celebrate our independence, let's also reaffirm our commitment to building a strong, inclusive, and prosper...
15/08/2023

Today, as we celebrate our independence, let's also reaffirm our commitment to building a strong, inclusive, and prosperous India. Let's work together to uphold the values of equality, justice, and progress for all. let us all stand together in making this nation sustainable and happy!

Happy Independence Day, India!

If you are dynamic yet empathetic and want to be part of India’s ruraleconomic growth story then join us!!We are a 25 ye...
10/08/2023

If you are dynamic yet empathetic and want to be part of India’s rural
economic growth story then join us!!
We are a 25 year old Organization working in different parts of Rural India, also in US and Japan. We work
towards creating an impact in rural areas by building an eco system of micro enterprises run by
women entrepreneurs.
Experience great leaning value for the professional mindests of today.

Submit your resumes at- [email protected]

Stories from the Vatika---"Today I went to Amwa vatika (which has been allocated to me recently) where I met Asha didi o...
25/07/2023

Stories from the Vatika---

"Today I went to Amwa vatika (which has been allocated to me recently) where I met Asha didi one of the members of Jaanki vaibhavi. I was trying to build a conversation with her to know more about her and her vaibhavi but initially failed to do so, as she was busy with her work in kitchen and was not noticing me at all. After waiting for a while I had an idea to develop the bond and learn more from and with her about the vatika and the vaibhavi. I went inside the kitchen and asked what she is working on, to which she replied she that she is making 'Rikavach' (A snack made by colocasia leaves).
The whole process seemed very interesting and I had the urge to learn the same. So, I took the liberty and asked her to teach me the recepie. She smiled to me and nodded her head. I got really excited and quickly washed my hands and sat with her. After spending hours with her I finally managed to learn the beautiful and tasty dish.
While I was learning the whole process I had the best time of this month. I was finally succesfull in connecting with her and to know about her. My learning from today's experience is that sharing abundance is not only a means of happiness and joy but a beautiful way to connect with people effortlessly. And I am glad I spent my day with her. So, today I take away a bag full of stories, traditional recieps and smile from my vatika. "- Sanjana.

Follow for more such heart warming stories from our vatikas and get a chance to know more about the traditional wisdom and ofcourse delicious reciepes.
Also write to us if you want the reciepe....

Drishtee Social Design Collab is a Global Design Initiative to preserve traditional artforms, create sustainable & innov...
24/07/2023

Drishtee Social Design Collab is a Global Design Initiative to preserve traditional artforms, create sustainable & innovative products for modern needs and promote holistic development of Rural India. Be a part of this movement by co-creating new designs in collaboration with our rural craftsmen across India, blending tradition and innovation in the areas of textile, apparel and handicraft.
This collaboration will help you create a positive change by enabling innovative solutions and making them scalable through our holistic ecosystem of rural services, value chains and livelihoods. The objective is to ensure that these products are market ready, promote conscious consumption and can support sustainable livelihoods in Rural India.
Duration: Upto 3 Months (flexible)

Important Dates

Last Date of Submission: 10th August,2023
Selection and Results: By 20th August
Product Development: End of August to September
Product Launch: October

How to apply for Design Collaboration?
Submit your design proposals, resume and portfolio at [email protected]

INTERNSHIP OPPORTUNITY!!!Drishtee is happy to announce its Internship Program in Japan. The internship is focused mainly...
21/07/2023

INTERNSHIP OPPORTUNITY!!!

Drishtee is happy to announce its Internship Program in Japan. The internship is focused mainly on Rural Rejivenation through collective action. It aims to enhance the quality of life for rural residents, create sustainable livelihood opportunities, and address various challenges faced by rural communities. It is a comprehensive approach that requires commitment from various stakeholders to address the unique challenges faced by rural areas and unlock their potential for sustainable growth and prosperity.
Be part of this journey and contribute in Building sustainable communities.

Submit your resumes on or before- 25th July,2023.
Location of the internship- Nagano City, Obuse, Shiojiri and other nearby rural areas in Nagano prefecture.
Contact info- 07085769886| [email protected]

Milky mushroom (Calocybe indica) has become the third commercially grown mushroom in India after button and oyster mushr...
20/06/2023

Milky mushroom (Calocybe indica) has become the third commercially grown mushroom in India after button and oyster mushrooms. This mushroom is fast reputation due to its attractive robust, white sporocarps, long shelf life, sustainable yield, delicious taste, unique texture and cholesterol free food. Milky mushroom is also an excellent source of thiamine, riboflavin, nicotinic acid, pyridoxine, biotin and ascorbic acid. The locally available substrates for its cultivation, the paddy straw substrates are very suitable for the milky mushroom cultivation. It is basically grown during the month of May to September.
We at Drishtee are training women to opt for livelihood options which can make the community and the planet as a whole sustainable. With the summer season coming around, vaibhavi's start growing Milky Mushrooms by taking trainings from esteemed trainers, to continue having a sustainable business throughout the season.
Steps towards building sustainable communities.
Picture Credits: Tinsukia Cluster Team

Skill Training is an integral part of Drishtee's journey of empowering rural women and enhancing their income-generating...
06/06/2023

Skill Training is an integral part of Drishtee's journey of empowering rural women and enhancing their income-generating potential.
Drishtee tailor skill training programs to the specific needs and aspirations of rural women, taking into account their existing knowledge, cultural context, and available resources.

To more smiles and accomplishments!

Wishing everyone a Happy World Environment Day! 🌱🌎Let us commit ourselves to be mindful stewards of our planet and takin...
05/06/2023

Wishing everyone a Happy World Environment Day! 🌱🌎
Let us commit ourselves to be mindful stewards of our planet and taking collective actions to shape the world of tomorrow 🌍💚. We pledge to create vibrant communities that prioritize the well-being of both people and the environment. Let us collectively build a sustainable future where future generations can thrive🌍💚

Taking collective action for collective responsibility .

22/03/2023

We are now on Instagram!

Follow us for more updates.
Sharing the link herewith:

Hiring Alert!!!!Do you want to be a part of Drishtee’s culture?Well, this is your opportunity!Join us as Gram Vidushi an...
09/02/2023

Hiring Alert!!!!

Do you want to be a part of Drishtee’s culture?

Well, this is your opportunity!

Join us as Gram Vidushi and experience working with the communities towards sustainable livelihoods and prosperity!

To get more information on the hiring process check the poster shared below.

To apply click on the shared link:

bit.ly/3Jr6LZc

      Vatika Meri kahani"एक कहानी ऐसी भी "कहानियाँ, किस्से या आख्यान काल्पनिक हो सकते है पर उस काल्पनिकता में भी एक यथार...
31/08/2022

Vatika Meri kahani

"एक कहानी ऐसी भी "

कहानियाँ, किस्से या आख्यान काल्पनिक हो सकते है पर उस काल्पनिकता में भी एक यथार्थ का बीज जरूर होगा जिसने उस कल्पनिकता को जन्म दिया होगा। वह यथार्थ किसी का संघर्ष, किसी का विलाप, किसी का रुदन, किसी की शक्ति, किसी की कर्मठता, किसी का धैर्य, किसी की ख़ूबसूरती या फिर किसी का जीत हो सकता है। और इन्ही विशेषणो ने उस व्यक्ति से जुड़कर उसकी कहानियां या किस्से लिखे होंगे। और इसी संघर्ष, विलाप, धैर्य, खूबसूरती और फिर किसी की जीत ने एक खूबसूरत सफर को एक शाम, एक शानदार मंजिल से मिलाया होगा। और फिर सफ़र का मंजिल से जा मिलना अनेक कहानियो और किस्सों को जन्म देता है। हम अपने जीवन में अपने-अपने हिस्से का विशेषण चुनते है। किसी का विशेषण उसको जीत से जोड़ता है तो किसी को हार से पर जोड़ता जरूर है।
वैसे ही आज की कहानी अफसरी दीदी की है। मैं उनके हिस्से का विशेषण आप तक पहुंचऊंगा। कहानी उनकी है पर शब्द मेरे होंगे। इस कहानी में अफसरी दीदी ने अनेक विशेषण जोड़े है जैसे शक्ति, कर्मठता, धैर्य, सघर्ष, हार और जीत। अफसरी दीदी की सफ़र की शुरुआत आज से चार महीने बीस दिन पहले हुई थीं। यानी चार मार्च दो हजार बाईस। एक फोन की घंटी बजती है। अननोन नंबर होता है। अननोन है तो गॉव से होगा।
शशांक - हेलो
अफसरी दीदी - हेलो सर, नमस्ते! मैं अफसरी बोल रही हूँ। सराई बाजार से।
शशांक- नमस्ते! दीदी बोलिये।
अफसरी दीदी - सर! हम लोग भी ट्रेनिंग लेना चाहते है तो कल आप हमारे यहाँ आइये हम लोगों को समझना है।
तो कुछ ऐसे शुरू हुआ अफसरी दीदी का दृष्टि परिवार से जुड़ने का सिलसिला। कभी भी शुरुआत इतनी आसान नहीं होती। मस्तिष्क में उपजे हजार प्रश्नों से स्वयं का साक्षात्कार कर हम शुरआत की पहली निव रखते है। शायद अफसरी दीदी ने भी ख़ुद को हजार प्रश्नों से गुजारा होगा। और ना जाने कितने लोगों की बाते जो उन्हें असफल होने के हजार कारण गिनाये होंगे। पर धैर्य और उम्मीद की नाव ने उन्हें सफलता का स्वाद चखाया। गोरखपुर में हमारी स्वावलंबन की सोच ने एक आत्मनिर्भर समूह को खड़ा किया। अफसरी दीदी का छोटा सा समूह है, छे लोगों का। काम सबके बटे हुए है। जैसे एक दीदी जिनका नाम अजमेरी दीदी है वह दुकानों से आर्डर लेना और वहा तक अगरबत्ती का पहुंचना सुनिश्चित करती हैं। इनका काम सिर्फ़ दुकानों पर जाके आर्डर लेना और सप्लाई करना है। इनकी भी बराबर की हिस्सेदारी है। अफसरी दीदी ने कच्चे माल को मंडी से लाने की जिम्मेवारी ले रखी है और अगरबत्ती के रेट, क्वालिटी, और पैकेजिंग को भी देखती है। किसी भी समूह या वैभवी की सफलता का प्रारूप बिलकुल व्यक्ति के दो पाँव की तरह है, आगे हम तभी बढ़ते हैं जब दोनों पाँव एक साथ और ताल-मेल के साथ आगे बढे। और यह अफसरी दीदी के समूह में ऐसा ही हुआ। तीन सौ रुपये की लागत से बनी अगरबत्ती को अफसरी दीदी के समूह ने तीन हजार में बेचा। यह उनकी पहली कमाई थीं जिसने उनके हौसले को उड़ान दिया। वह दृष्टि और श्री महिला उद्योगी समूह एक साथ आगे बढ़ा है बिलकुल व्यक्ति के दो पांव की तरह।
धन्यवाद!

# मेरी वाटिका मेरी कहानी
# दृष्टि
# स्वावलम्बन

Celebrating 75 years of Independence!Let us embrace oneness and experience freedom by taking responsibility.Experience s...
15/08/2022

Celebrating 75 years of Independence!
Let us embrace oneness and experience freedom by taking responsibility.

Experience series of events from 15th August to 2nd October with us to mark the glorious years of Independence.

Wishing everyone a very Happy Independence Day!
15/08/2022

Wishing everyone a very Happy Independence Day!

Wishing you all a Happy World Menstrual Hygiene Day!Here's to making periods better and safer for all.
28/05/2022

Wishing you all a Happy World Menstrual Hygiene Day!
Here's to making periods better and safer for all.

13/05/2022

"Live Session on Financial Ecosystems for a self reliant Communtiy"

       Vatika meri Kahani'गाँव, रुख और हम'गाँव की आँखे हमेशा से संवेदनशील रही है। इसीलिए इन गाँवो ने एक अपनी अलग परिभाषा...
21/04/2022

Vatika meri Kahani

'गाँव, रुख और हम'

गाँव की आँखे हमेशा से संवेदनशील रही है। इसीलिए इन गाँवो ने एक अपनी अलग परिभाषा गढ़ा हैं। गाँव अपने दोनों हाथों को खोल, एक कदम आगे बढ़ सबका अभिनन्दन करता हैं जैसे सागर तमाम नदिओं को अपने अंदर समाहित कर लेता हैं और अपने आप को कभी बदला सा महसूस भी नहीं होने देता हैं। वैसे ही गाँव अपने अंदर कुछ अपनी पहचान छुपाये होता हैं। और वह पहचान उस गॉव की खूबसूरती समेट उसका परिचय कराता हैं।
जैसे गाँव का वह खलिहान जो अपने अंदर उस गॉव का इतिहास सजोए होता हैं। वह खलिहान उस गॉव के अनेक रंगों के साथ-साथ एक बेजोड़ संस्कृती का सारथि होता हैं। और वैसे ही उस गाँव के एक कोने पर आम का बगीचा जहाँ उस गाँव की कई पीढ़ियां जिसने अपने-अपने हिस्से का अनेक खेल खेले होंगे।
गाँव अपनों को कभी ख़ुद से बिदा नहीं करता। आप हमेशा के लिये गाँव का हो कर रह जाते हैं। मरने के बाद भी दो गज़ जमीन, गाँव के एक कोने पर मुकम्मल होती हैं जिसे आप समसान या कब्रिस्तान के नाम से जानने हैं। आपके शरीर का एक-एक कण इस गाँव के वातावरण मे घुल सा जाता हैं।

देखो ना कितना बेरहम पत्थर दिल हैं वह शहर जिसने अलग-अलग ऊंची ईमारतो को अपना घर कहता हैं। घर की परिभाषा संवेदनशीलता और अपनापन पर टिकी होती हैं। उसने उस घर या सोसाइटी के गेट पर एक पहरेदार भी खड़ा कर रखा हैं। मुझे नहीं पाता की यह शहर किससे डरता हैं। शायद उनसे जो उस ऊंची ईमारतो को अपनी गर्दन उचका कर देखते हैं या शायद उनसे जिनकी फटी जेब से खनखनाते सिक्के बाहर निकल जाने को आतुर होते हैं।
मुझे उस गाँव मे दुर से आ रही हरिःकीर्तन या अज़ान की आवाज़ बहुत ही अच्छी लगती हैं। एक सुखद आंनद की प्राप्ती होती हैं बिल्कुल आषाढ वाली गर्मी के बाद बारिश का हो जाने वाला सुकून। मुझे फर्क नहीं पड़ता की उस स्पीकर से निकली आवाज़ मे हरिःकीर्तन हैं या अज़ान। शायद आपको भी फर्क नहीं पड़ना चाहिए।

ख़ैर! यह आम का पेड़ गाँव के एक कोने पर 150 से भी अधिक सालों से अपने मीठे रस से गाँव को सींच रहा हैं। और आपको पाता हैं? गॉव मे इन पेड़ों के भी अपने-अपने नाम होते हैं। शायद इनका भी अपना एक परिवार होता होगा। और उस परिवार का नाम बगीचा या बगईचा होता होगा। गाँव के सबसे बुजुर्ग रामनरेश काका को इस पेड़ से जुड़े अनेक किस्से याद आते हैं। वह बताते हैं की यह तोतीयवा ऐसे अकेला नहीं था। इसका भी एक परिवार था। बस यही अब बचा हैं। बाक़ी इसके परिवार वाले तस्करी के शिकार हो गये। अब यह भी अपने पुराने विकराल रूप का परित्याग करने लगा हैं। शायद कुछ दिन गिन कर बचे हैं इसके पास लेकिन फिर भी अपनी वफादारी पूरी ईमानदारी से निभा रहा हैं। इसके लिये इतने सालों का सफ़र आसान नहीं रहा होगा। ना जाने कितने तूफानों और थपेड़ो ने इसकी परीक्षा ली होगी जिसकी बदौलत आज वह 150 सालों से ज्यादा का सफ़र तय कर पाया हैं। इंसानी जीवन का सफ़र भी कुछ ऐसे ही होता है।
उसने इतने सालों मे अनगिनत पथिको को छाव दी होंगी, हजारों परिंदो का बसेरा होगा, और ना जाने कितने भूखे लोगों की जठराग्नि शांत की होंगी। वह भी बिल्कुल निस्वार्थ। शायद यह रुख बिना बोले बहुत कुछ सिखाता हैं। अपने अस्तित्व को बनाए रखने के लिए हमें निरंतर सिखते रहना चाहिए। सिखना! आगे बढ़ने की पहली क्रिया हैं।
धन्यवाद!

# मेरी वाटिका मेरी कहानी
# स्वावलम्बन
# Drishtee

19/03/2022

Drishtee in Assam ... Co-Founder Satyan Mishra, Paragdhar Konwar and CEO of Greater Impact Foundation, Kenneth Lewis (Support Partner for Swavlamban Impact on Rural livelihoods and Shared prosperity for communities)

19/03/2022

Women's Day Celebration with Rural Entrepreneurs (Varanasi)

19/03/2022

Women's day celebration at Lahiya, Village.Organised by Mitra Manju Devi.
Rural Women entrepreneurs of Varanasi from different villages were present and celebrated this day together.
In this event they shared their experiences and the journey from being a house woman to becoming an entrepreneur and making their dreams come true..
They explained about their business and showed their products and motivated every women present there to come forward and to do something additional in their routine life..

     #स्टोरी ऑफ़ द डे…   vatika meri kahaniस्वावलंबन एक बहुआयामी शब्द हैं। यह अपने अंदर जीवन के अनेक भावो को समेटें हुआ ह...
27/02/2022


#स्टोरी ऑफ़ द डे… vatika meri kahani

स्वावलंबन एक बहुआयामी शब्द हैं। यह अपने अंदर जीवन के अनेक भावो को समेटें हुआ है। स्वावलंबन एक एसी निव हैं जिस पर इंसान ने विकास के अनेक इमारतें बनाई है। स्वावलंबन इंसान को रोटी, कपड़ा और मकान के साथ-साथ मन की आजादी का भी यहसास कराता है। एक ऐसा एहसास जिसे मनुष्य का मस्तिष्क समझने लगता है की हमें गरीबी से आजादी मिल सकती है, हमें सामाजिक बंधनों से आजादी मिल सकती है, हमें जाति प्रथा से आजादी मिल सकती है, हमें पितृसत्तात्मक समाज से आजादी मिल सकती है। इस भाव के साथ स्वावलंबन एक नवीन समाज का सृजन करता है। समाजशास्त्री हरबर्ट स्पेंसर की थ्योरी ' सर्वाइवल ऑफ फिटेस्ट ' आज भी स्वावलंबन के बहुआयामी भाव से जुड़ा हुआ है। स्वावलंबन हमारे दिमाग और शारीरिक क्षमताओं का विकास कराता है। यह हमें सहनशील, समझदार के साथ-साथ समाजिक भी बनाता है जिससे इंसान का आत्मविश्वास बढ़ता है।
इसी स्वावलंबन से जुड़ी है इटहिया टोला की संगीता दीदी की कहानी। अभाव इंसान को सब कुछ सहन कर जाने की शक्ति देता है। मुझे लगता है की अभाव का यह एक मात्र सकारात्मक पक्ष है। इस पर डिबेट हो सकता है। व्यक्ति कुछ देर तक अपने सम्मान और स्वाभिमान को भुल लोगों के उलाहने और कटु शब्दो के घुट पी जाता है। संगीता दीदी के लिये असान नहीं था मेरे लिये हर रोज अपने पड़ोसी से कुर्सी मांगना। मैं उन्हें बता चुका था की दीदी मुझे कुर्सी की जरूरत नहीं है। मैं आपके उस दबी चारपाई पर भी बैठ सकता हूं। आप मेरे लिए इतना परेशान मत हुआ कीजिये। आपका परेशान होना मुझे असहज कर देता है। लेकिन गाँव और उसके लोगों ने एक बार आपको अपना लिया तो फिर आप उनके लिये मुसाफिर से रहनुमा बन जाते है। और आपको पता भी नहीं चलता।
आपको इस तस्वीर मे सिर्फ़ कुर्सी दिख रही होंगी लेकिन मुझे इसके साथ-साथ किसी का स्वाभिमान और आत्मविश्वास से भरा होना, अपने कमाए गये पैसे से खरीदने का गौरव, कल से किसी से कुर्सी नहीं मांगनी पड़ेगी उसका विश्वास और चैन, पूर्ण रूप से दिखाई दे रहा है। यह कुर्सी पहली उपज है स्वावलंबन के बीज की जिसे हमने बोया है। यह स्वावलंबन की उपज ना जाने कितने दिनों से जेहन में दबी पड़ी उस उम्मीद और सपनों को पूरा किया है। ना जाने कितने उम्मीदो और सपनों को पंख दिया है। मुझे याद नहीं की कितनी बार संगीता दीदी ने लोगों को बताया होगा की मैने नई कुर्सी ख़रीदी है। शायद वह कुछ और सपने देखना चाहती है जिसे वह फिर से पुरा कर सकें। अब घूंघट रूपी बेड़ियां हटाना चाहती है। बसंत अपने दोनों हाथ पसारे इस बेड़ियो कि टूटने का इंतजार कर रहा है। कितना रोमांचक है या पल, चालीस सालों की घुंघट की बेड़िया चार महीनों में टूटने जा रही है। बसंत ने इस वातावरण में एक मीठी सी खुशबू घोल दि है। नई कोपले निकलने लगी है। सब कुछ बदलने लगा है।

# मेरी वाटिका मेरी कहानी
# स्वावलंबन

Happy Republic Day🇮🇳
26/01/2022

Happy Republic Day🇮🇳

22/01/2022
18/01/2022

#मेरी वाटिका मेरी कहानी
"ख़ुद पर हौसला रख जीत तेरी ही होगी "
कपट के शोर में
सही होते हुए भी दब जाना, बुरा तो है
जुगनुओं की लौ में पढ़ना, बुरा तो है
मुट्ठियां भींचकर बस वक्त निकाल लेना, बुरा तो है
पर सबसे खतरनाक नहीं होता

सबसे खतरनाक होता है
मुर्दा शांति से भर जाना
तड़प का न होना सब सहन कर जाना
घर से निकलना काम पर
और काम से लौटकर घर जाना
सबसे खतरनाक होता है
हमारे सपनों का मर जाना....
- अवतार सिंह संधू ‘पाश’

'सबसे खतरनाक होता है हमारे सपनों का मर जाना' मैं इस पाश की लाइन को याद नहीं करना चाहता हूं। गाहे-बगाहे यह पंक्ति मेरे जेहन के किसी कोने में मुर्दा लाश की तरह पड़ी रहती है। डर जाता हूं जब यह पंक्ति जेहन से होते हुए मस्तिष्क तक पहुंचती है। इन आँखो द्वारा गॉवो मे देखी गई तस्वीरें इस पंक्ति में जान डाल इसे चरितार्थ करती है। भले गांव की दीदी लोगों को यह पाश की लाइनें पता ना हो पर मुझसे यह लाइन हर रोज हज़ार सवाल पुछती है। सपना सिर्फ एक शब्द नहीं है, यह मनुष्य के अनेक मनोभावों को अपने अंदर समाए हुए होता है और मनुष्यता का बोध कराता दीपक है। उम्मीद एक बेहतर शुरुआत की। साहस फिर से उठ खड़े होने की। शक्ति उन बेड़ियों को तोड़ने की। शायद इसी सपने और मनोभाव के साथ रंभा दीदी और उनकी टीम इस सफर की शुरुआत की होगी। मुझे तनिक भी इस बात का भय नहीं था की जिस काम के लिए मुझे यहां भेजा गया है अगर वह नहीं हो पाता है तो मैं अपने रिपोर्टिंग ऑफिसर को क्या उत्तर दूंगा। पर मुझे इस बात का सबसे ज्यादा भय था की जो सपनो का बीज मैंने रंभा दीदी और उनकी टीम के मस्तिष्क में बोया है अगर वह सकार नहीं हुआ तो मैं उन्हें क्या उत्तर दूंगा। और यह भय आंखों देखी सच्चाई की उपज थी और यह भय होना भी चाहिए जिसे आपको दी गई जिम्मेदारियों का बोध कराती रहती है। मैं कैसे भूल सकता हूं की माया दीदी ने किस भाव और दबे मन से ट्रेनिंग फी 250 रुपये दिये थे। मुझे मालूम है की माया दीदी ने किन सपनों को मन मे लिए 250 रूपये दिए होंगे। मैं नहीं देखना चाहता था लेकिन फिर भी मेरी निगाहें उनके खाली पैरों की तरफ हमेशा चली जाती थीं। यकीनन 250 रुपए में 4 जोड़ी चप्पल आते।
जब मैं इस सफर को शब्द रूप रूपी डोर से बुन रहा था तब मुझे फणीश्वर नाथ रेणु की एक अद्भुत सशक्त आंचलिक उपन्यास 'मैला आँचल' की याद और उसकी ऊर्जा को महसूस कर रहा था। कैसे एक युवा डॉक्टर एक मोटी कमाई छोड़ उत्तर-पूर्वी बिहार के एक पिछड़े ग्रामीण अंचल के लोगों के लिये काम करता है। रंभा दीदी और उनकी टीम का यहां तक का सफर व्यंग, उलाहने, ताने और हॅसी से भरा था। जिन्हें हमेशा यह सोचने के लिए मजबूर करता था की क्या हम सफ़ल होंगे? मुझे याद है वह दिन, मुझसे ज्यादा रंभा दीदी और उनकी टीम दुःखी थीं उनके द्वारा बनाए गए हर्बल अगरबत्ती का नकारात्मक फीडबैक आया था। असफलता सिर्फ अपने साथ नकारात्मक भाव ही नहीं लाती बल्कि उसके साथ धैर्य और दोगुनी ऊर्जा के साथ फिर से लग जाने का भाव भी निहित होता है। इसे बखूबी रंभा दीदी और उनकी टीम ने पहचाना जिसका परिणाम हमारे सामने हैं। यह तस्वीर मकर संक्रांति की है। मैं सोंचता हूं की उस दिन तो दीदी लोगों को कम से कम काम से छुट्टी लेनी चाहिए थी, लेकिन कुछ नया और उन बेड़ियो को तोड़ने का संकल्प और साहस, हमने यानी हमारे दूरदर्शी स्वालंबन की सोच जो की दृष्टि द्वारा देखी गई है उसका एक छोटा सा सफ़ल उदाहरण है। हाथों मे दो पैसे आने से इंसान आर्थिक रूप से सशक्त होने के साथ साथ जीवन के अनेक पहलूओ मे भी सशक्त होता है। आर्थिक स्वतंत्रता उसके सम्मान से जुडी होती है। ना जाने उसने कितनी बार अपने स्वाभिमान और सम्मान की चिंता किए बिना 2 रुपए के लिए किसी के सामने हाथ पसारे होंगे। इस अवसर ने उनके सम्मान, स्वाभिमान, और साहस को दोगुना किया है। रम्भा दीदी और उनकी टीम के घर जाते ही उनका पहला वाक्य यह रहता है की सर कल हमने इतने पैसे की अगरबत्ती बेचीं थीं। मुझे पता है की इस छोटे से रूपये का वजन मेरे और आपके जीवन मे कोई मायने नहीं रखता है लेकिन मुझे पूरा यकीन है की इसी छोटे से रुपए से उनकी दशा और दिशा दोनों बदलेंगी। जय हो।
#मेरी वाटिका मेरी कहानी
# स्टोरी ऑफ़ द डे
# स्वालंबन
# दृष्टि

 #मेरी वाटिका मेरी कहानी     गॉव खिचड़ी यानी मकर संक्रांति की तैयारियों मे लग गया है। धान और गन्ने की कटाई के तुरंत बाद ...
12/01/2022

#मेरी वाटिका मेरी कहानी


गॉव खिचड़ी यानी मकर संक्रांति की तैयारियों मे लग गया है। धान और गन्ने की कटाई के तुरंत बाद पड़ने वाला यह त्योहार हमें अपने जड़ से जोड़ता है। तिलवा! धान से बने चुडा और गन्ने से बने गुण का मिलाजुला एक बेजोड़ स्वाद है। और मकर संक्रांति के दिन का एक सम्पूर्ण भोजन। रम्भा दीदी ने इस भट्टी की कमान संभाली है। भुजा यानी लाई के बनने का का पूरा साइंस भट्टी के तापमान और समय पर निर्भर करता है और इसकी जानकारी रंभा दीदी को भलीभांति है। बच्चे दो मुट्ठी भुजा यानी लाई के ताक में लगे हुए हैं। दो मुट्ठी लाइ पा जाने की खुशी सब कुछ पा जाने जैसी है।।
समाज जातीय ढकोसला रूपी चोला अपनी जरूरतों के हिसाब से बदलता रहता है। उस परिवार से भी आज चना और चावल भुनने के लिए आया है जहां चाय के दो कप है जो कि व्यक्ति के जाति के हिसाब से निकलते हैं। दोनों कपो का विभाजन शुद्ध और अशुद्ध के हिसाब से हुआ है और एक ही घर में दोनों को रखने का स्थान भी अलग-अलग है । उस समाज ने अपने चारपाई पर बैठने की कभी उन्हें जगह नहीं दी जिसके छू देने मात्र से चीजें अशुद्ध हो जाती हैं। ऐसा उनका मानना है। आज रंभा दीदी निर्भीकता पूर्ण चना और चावल को तिलवा लायक बना रही हैं जो कि उस उच्च परिवार से आए हैं। आज समाज को समाज द्वारा घोषित अछूत बिरादरी से आने वाली रंभा दीदी के जाति से कोई वास्ता नहीं है क्योंकि उसमें आज उसका हित है। उन्हें आज ख्याल नहीं है की रंभा दीदी के छू देने मात्र से तिलवा अशुद्ध हो जाएगा। गांव कुछ विडंबनावो को लेकर चलता है। लेकिन समाजिक संरचना परिवर्तनशील है।।
पारा गिर रहा है ठंड बढ़ रही है। मुरारी इश्क में है। उसमें इश्क की नई कोपले फूटी हैं। गांव के बाहर बड़की पुलिया पर बैठा है। शायद वह किसी का इंतजार कर रहा है। इंतजार का दूसरा नाम धैर्य है। इस छोटे से इंतजार से वह अपने जीवन में धैर्य की महत्वता को समझेगा। स्कूल की छुट्टी हो गई है। बरसीम और बथुआ के साथ शिव टोला की अम्मा अपने घर को लौट रही है। दिन ढल रहा है। लोग शाम के अंगीठी का इंतजाम करने लगे हैं।

 #मेरी वाटिका मेरी कहानी   क्या आपने अपनी वाटिका की सैर सूरज की पहली उषा यानी लगभग सात बजे किया है? अगर किया है तो आप मे...
08/01/2022

#मेरी वाटिका मेरी कहानी




क्या आपने अपनी वाटिका की सैर सूरज की पहली उषा यानी लगभग सात बजे किया है? अगर किया है तो आप मेरी आज के इस छोटे से किस्से से जरूर इत्तफ़ाक़ रखेंगे।
गाँव मे ठंढक ने दस्तक़ दे दी हैं। ओश की चादर ने पूरे गाँव को ढक दिया है। ओश रूपी चादर से बचने के लिए आर्थिक चादर का लम्बा और बड़ा होना आवश्यक होता है। फेरी वालों की हलचल गाँव मे बढ़ गई है, शायद वे गर्म कपडे बेच रहे है। श्यामा टोला की बुढ़िया काकी अपनी रजाई की मरम्मत कराने के लिए चार महीने से उस पुराने चावल वाली गठरी में पैसे इकट्ठा कर रही है। पिछली बरसात और दरकते हुए छप्पर ने मिल कर बुढ़िया काकी की रजाई भिगोई थीं। ठंड और गरीबी एक दूसरे के पूरक है। पांव फटते ही विष्णु टोला के राममंनोहर काका अपनी चार गाय और दो भैंसों के साथ उरमी के जंगल की तरफ निकल गए हैं। साइकिलो की झुंड गांव की पतली सड़कों को चुमते हुए निकल चुकी है। यह अब शहर के उस लेबर चौराहे पर ही रुकेंगी। गृहस्थीं सिगरेट का धुआं उड़ाते और रफ़्तार में उड़ाते नौजवानों का बाइक चलाना नहीं है। गृहस्थीं साइकिल का वह पैड़ल जिसे निरंतर धीमे धीमे चलाना होता है। इस बात को गजराज टोला के रमेश से बेहतर कौन समझ सकता है की जब वह शाम को काम से लौटेगा तभी चूल्हा जल पायेगा और आज छोटकी मुनिया का फेवरेट डिश चिकेन बनेगा।
बच्चों की टोली नीले-पीले वर्दी ड़ाल अपने भविष्य की कहानी लिखने प्राइमरी स्कूल की तरफ चल दिए हैं। उम्मीद है की उनमें से फिर कोई आंबेडकर बन निकलेगा। उनमे आज शाम को होने वाली आपसी क्रिकेट मैच की चर्चा चल रही है। कोइरी टोला की दीदी लोग धान की कटाई से निर्वित हो अब आलू और गेहू की रोपाई के लिये अपने खेतों की तरफ चल चुकी है। यह है आज के मेरे गाँव का मनोरम दृश्य जिसको देखने के लिये इमानदारी रूपी मूल्य की दृष्टि चाहिए।

Address

Innov8, 2nd Floor, Regal Building
Delhi
110001

Alerts

Be the first to know and let us send you an email when Drishtee posts news and promotions. Your email address will not be used for any other purpose, and you can unsubscribe at any time.

Contact The Business

Send a message to Drishtee:

Videos

Share

Category

Nearby government services


Other Social Services in Delhi

Show All